भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी में सेंध लगाने पाकिस्तान इस तरह रच रहा साजिश, किया ये घटिया काम

नई दिल्ली। भारतीय खुफिया एजेंसियों ने हाल ही में पाया है कि पाकिस्तानी इंटेलिजेंस ऑपरेटिव (PIO) AI टूल्स और डीप फेक का इस्तेमाल कर डिफेंस और संवेदनशील विभाग से जुड़े लोगों को हनी ट्रैप कर उनसे संवेदनशील जानकारी इकट्ठा करने के फ़िराक़ में है।

एजेंसी के सूत्रों ने खुलासा किया है कि इन दिनों वैलेंटाइन डे के मद्दे नज़र पाकिस्तानी इंटेलिजेंस ऑपरेटिव (PIO) के लोग संवेदनशील विभाग में काम करने वालों को फ़साने की कोशिश में है। इसके लिए वो प्यार की आड़ में, संवेदनशील जानकारी प्राप्त करने के लिए आधिकारिक प्रोफाइल को हैक करने के प्रयास में वैलेंटाइन से जुड़े कई मैलवेयर मैसेज और लिंक किए गए ग्राफिक्स, फोटो , चैट ग्रुप भेज रहे हैं।

इस तरह से पाकिस्तान रच रहा साजिश

सूत्रों ने यह भी दावा किया कि कई अधिकारी शक के घेरे में हैं जिसकी जांच आगे की जा सकती है। जांच के दौरान यह भी पता चला कि ज्यादातर संदिग्ध महिलाओं के प्रोफाइल AI टूल्स का इस्तेमाल कर बनाये गये थे जिनका नाम पायल, सोनिया, आरती, ममता और सुनीता था। पीआईओ द्वारा तैयार की गई ये प्रोफाइल वास्तविक, पुरानी और रेलायबल दिखती है और ये बनाई गई प्रोफ़ाइलें मॉडल, स्ट्रैगलिंग एक्ट्रेस, डायवर्स ली हुई महिला या एक जरूरतमंद महिला की होती है।

सूत्रों में यह भी बताया की जब भी कोई अधिकारी, जो किसी सरकारी संवेदनशील विभाग में काम करता है और वो सोशल मीडिया पर आता है तो उनसे बातचीत करने के लिए इन काल्पनिक पहचानों का इस्तेमाल किया जाता था। पीआईओ को अपने लक्ष्यों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी होती है, जिससे उन्हें बातचीत में उलझाना और उन्हें फंसाना आसान हो जाता है। इन बातचीत के दौरान, वे अधिकारियों के फोन पर मौजूद डेटा के बदले सेक्शुअल फ़ेवर की भी बातचीत करते है। सूत्रों के मुताबिक, एआई टूल्स द्वारा तैयार किए गए कई डीपफेक वीडियो और तस्वीरों के जरिए लोगों को फंसाया जाता है।

सूत्रों ने यह भी दावा किया है कि हाल ही में हुई घटनाओं के बाद, भारतीय सेना ने अपना स्वयं का एआई चैटबॉट बनाया है और यह चैटबॉक्स अपने स्वयं के सैनिकों को लुभाने और संभावित जासूसों की पहचान करने के उद्देश्य से डिज़ाइन किया है।