तनाव के बीच अब दिल्ली आना चाहते हैं राष्ट्रपति मुइज्जू, मालदीव ने दिया यात्रा का प्रस्ताव

नई दिल्‍ली । भारत और मालदीव के बीच बढ़ते तनाव के बीच एक बेहद महत्वपूर्ण खबर सामने आई है। मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू (President Mohamed Muizzu) जल्द ही भारत की यात्रा पर आ सकते हैं। मालदीव ने इस महीने के अंत में राष्ट्रपति मुइज्जू की भारत यात्रा का प्रस्ताव रखा है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में लक्षद्वीप (PM Modi Lakshadweep Visit) की यात्रा की थी। पीएम मोदी ने यहां के समुद्र तट से अपनी तस्वीरें भी शेयर कीं और लोगों से विदेश की बजाय देश में ही घूमने की अपील की। इसे सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने मालदीव के लिए एक झटका बताया। इसके बाद वहां के मंत्रियों ने भारत के खिलाफ विवादित कमेंट करने शुरू कर दिए।

मोहम्मद मुइज्जू के राष्ट्रपति बनने के बाद से लगातार पटरी से उतरते दिख रहे भारत-मालदीव के रिश्तों के लिए इन बयानों को बड़ा झटका बताया जा रहा है। कई बॉलीवुड सेलिब्रिटी और आम लोग इसे लेकर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। भारत में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर #BycottMaldives ट्रेंड कर रहा है। इस बीच मालदीव सरकार इस नुकसान की भरपाई की कोशिश में जुट गई है।

राष्ट्रपति मुइज्जू ने पिछले साल नवंबर में पदभार संभाला था। सत्ता में आने के बाद से वह अब तक तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और चीन का दौरा कर चुके हैं। जबकि इससे पहले मालदीव के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सबसे पहले भारत की यात्रा करते थे। मुइज्जू सरकार के मंत्रियों की अपमानजनक टिप्पणियों पर मौजूदा राजनयिक संकट पैदा होने से पहले यह यात्रा प्रस्तावित थी, लेकिन वह भारत नहीं आए।

अभी चीन के यात्रा पर है मुइज्जू

राष्ट्रपति मुइज्जू इस समय चीन की एक सप्ताह की यात्रा पर हैं। मालदीव सरकार ने पहले एक बयान जारी कर भारत और पीएम मोदी के खिलाफ अपने मंत्रियों की विवादित टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया है। इसके बाद मालदीव सरकार ने विवादित बयान देने वाले तीन मंत्रियों को निलंबित कर दिया।

Wionews की रिपोर्ट के मुताबिक मुइज्जू सरकार के मंत्रियों की ओर से पीएम नरेंद्र मोदी और भारत के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी से पहले ये यात्रा प्रस्तावित थी। राष्ट्रपति मुइज्जू ने अपना चुनाव प्रचार भारत विरोध के नाम पर किया है। सत्ता में आने के बाद ही उन्होंने सबसे पहले भारत से अपने सैनिकों को वापस बुलाने को कहा था। अब भारत और मालदीव के बीच संबंध मुइज्जू के मंत्रियों के कारण बेहद खराब हो रहे हैं।