UAE के अबू धाबी में निर्मित भव्य मंदिर का उद्घाटन करेंगे PM, क्यों छोटा करना पड़ा ‘अहलान मोदी’ कार्यक्रम

नई दिल्‍ली । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)अबू धाबी में मंगलवार को आयोजित जिस ‘अहलान मोदी’ (‘Ahlan Modi’)सामुदायिक कार्यक्रम को संबोधित (addressed)करने वाले हैं, उसका समय संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में खराब मौसम के कारण कम कर दिया गया है। कार्यक्रम की तैयारियों से जुड़े एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। अरब भाषा में ‘अहलान मोदी’ का मतलब ‘हैलो मोदी’ है। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार से यूएई की दो दिवसीय यात्रा शुरू करेंगे जहां वह अबू धाबी में निर्मित भव्य बीएपीएस मंदिर का 14 फरवरी को उद्घाटन करेंगे।

पूरे संयुक्त अरब अमीरात में रातभर भारी बारिश और गरज के साथ बिजली चमकने की घटना दर्ज की गई। बारिश से यातायात जाम के साथ जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई जिसके कारण ‘अलहान मोदी’ कार्यक्रम को छोटा करने का निर्णय लिया गया।

समुदाय के नेता सजीव पुरुषोतमन ने बताया कि अबू धाबी के ‘जायद स्पोर्ट्स सिटी स्टेडियम’ में प्रधानमंत्री मोदी के अब तक के सबसे बड़े प्रवासी कार्यक्रमों में से एक की तैयारी अच्छी चल रही थी, लेकिन खराब मौसम के कारण इसमें लोगों की भागीदारी को 80,000 से घटाकर 35,000 कर दिया गया।

60,000 लोगों ने पहले ही अपनी उपस्थिति की पुष्टि कर दी

पहले यह बताया गया था कि लोगों को पंजीकृत करने के लिए स्थापित एक वेबसाइट के माध्यम से 60,000 लोगों ने पहले ही अपनी उपस्थिति की पुष्टि कर दी थी। इस कार्यक्रम में केवल भारतीय मूल के व्यक्ति ही शामिल होंगे। पुरुषोतमन के अनुसार, सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वालों सहित 35,000 से 40,000 लोग इस कार्यक्रम में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम स्थल पर 1000 से अधिक स्वयंसेवक तैनात रहेंगे और 500 से अधिक बसें संचालित की जाएंगी।

यूएई में कम से कम 35 लाख भारतीय रहते हैं

अबू धाबी में भारतीय दूतावास के एक सूत्र ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा संबोधित किए जाने वाले सार्वजनिक कार्यक्रम में 45,000 लोग शामिल होंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने इसके पहले तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ ‘हाउडी, मोदी!’ नामक एक विशाल सामुदायिक कार्यक्रम को 22 सितंबर, 2019 को टेक्सास के ह्यूस्टन में संबोधित किया था। यूएई में कम से कम 35 लाख भारतीय रहते हैं।

यूएई के बड़े हिस्से में भारी बारिश, बर्फबारी, गरज के साथ बिजली कड़कने की घटना के कारण इस खाड़ी देश में सोमवार को सुरक्षा चेतावनी जारी की गई और गति सीमा को कम कर दिया गया। लोगों ने अल ऐन शहर में बर्फबारी के वीडियो भी साझा किये हैं। लेकिन बर्फबारी होने की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

संयुक्त अरब अमीरात में पहला पारंपरिक हिंदू मंदिर

अबू धाबी में बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) हिंदू मंदिर, संयुक्त अरब अमीरात में पहला पारंपरिक हिंदू मंदिर है जिसे पत्थर से बनाया गया है। यह मंदिर दुबई-अबू धाबी शेख जायद राजमार्ग पर अल रहबा के पास अबू मुरीखा में स्थित है। यह मंदिर करीब 27 एकड़ में फैला है और इसका निर्माण वर्ष 2019 से चल रहा है। मंदिर के लिए जमीन का दान यूएई की सरकार ने किया है। यूएई में तीन अन्य हिंदू मंदिर हैं जो दुबई में स्थित हैं। लेकिन बीएपीएस पूरे खाड़ी क्षेत्र में सबसे बड़ा मंदिर होगा।