झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत आज कोर्ट में होंगे पेश, जानें किस जेल में कटी पहली रात, साथ में था यह ‘शख्स’

CM Hemant Soren pops up at his Ranchi residence, Kalpana Soren may be new  CM face in Jharkhand

रांची (Ranchi) । कथित जमीन घोटाला (alleged land scam)मामले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले (money laundering cases)में ईडी द्वारा गिरफ्तार (Arrested)झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Former Chief Minister Hemant Soren)की एक दिन की न्यायिक हिरासत (judicial custody)आज पूरी हो रही है. हेमंत सोरेने की पहली रात होटवार के बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा जेल (Birsa Munda Central Jail of Hotwar)में कटी. हेमंत सोरेन को बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल के अपर डिविजन सेल में रखा गया था, जहां उनकी रात बिती. बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग यानी धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार किए गए झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को गुरुवार को एक दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा के अपर डिवीजन की सेल नंबर 01

हेमंत सोरेन को बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा के अपर डिवीजन की सेल नंबर 01 रखा गया था. अपर डिविजन सेल वीवीआईपी आरोपियों और कैदियों के लिए अलॉट किया जाता है. यही वजह है कि हेमंत सोरेन को भी यही सेल अलॉट किया गया था. सेल में अटैच बाथरूम, किचन और अर्दली की व्यवस्था होती है. हेमंत सोरेन के सेल में भी यह सारी व्यवस्था थी. उनके सेल में एक अर्दली भी था. दरअसल, अर्दली एक तरह से सहायक या फिर देखभाल करने वाला जेल प्रशासन का शख्स होता है. वह वीआईपी कैदियों अथवा आरोपियों की मदद के लिए सेल में मौजूद होता है।

ईडी ने हेमंत सोरेन का 10 दिन का रिमांड मांगा

बता दें कि इस मामले में ईडी ने हेमंत सोरेन का 10 दिन का रिमांड मांगा था. मगर अदालत ने अपना आदेश शुक्रवार के लिए सुरक्षित रख लिया. हालांकि, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेने को एक दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. हेमंत सोरेन की ओर से पेश हुए महाधिवक्ता राजीव रंजन ने अदालत के बाहर बताया कि झामुमो नेता को आदेश पारित होने तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. वकील राजीव रंजन के मुताबिक, पूरा मामला गलत मंशा से प्रेरित है. यह सरकार गिराने की साजिश है. पूरी कार्यवाही में पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ कोई सबूत नहीं है. उनकी गिरफ्तारी तब की गयी जब उनका बयान दर्ज करने की कार्रवाई जारी थी, जो गैरकानूनी है।

मामले में सात घंटे की पूछताछ

हेमंत सोरेन को बुधवार रात यहां धनशोधन मामले में सात घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ने गिरफ्तार कर लिया था। इससे पहले उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. झामुमो नेता को यहां बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार ले जाया गया. जेल ले जाने के लिए जैसे ही पूर्व मुख्यमंत्री को अदालत के बाहर लाया गया, उनके समर्थकों ने हेमंत सोरेन जिंदाबाद के नारे लगाए. बता दें कि आज झारखंड को एक नया मुख्यमंत्री मिल जाएगा, क्योंकि चंपई सोरेन आज सीएम पद की शपथ ले सकते हैं।