हंगामा के बीच केके पाठक का बचाव करते हुए, नीतीश कुमार ने कह दी ये बड़ी बात..

पटना। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को लेकर बिहार विधानसभा में बुधवार को लगातार दूसरे दिन भी हंगामा हुआ। विपक्षी सदस्यों ने केके पाठक को पद से हटाने की मांग करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। आरजेडी समेत अन्य विपक्षी दलों के नेता नीतीश कुमार मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। इस पर मुख्यमंत्री भड़क गए। वे अपनी सीट से उठे और केके पाठक को ईमानदार अधिकारी बताते हुए विपक्ष पर निशाना साधा। उन्होंने केके पाठक का बचाव किया और उन्हें ईमानदार अफसर बताया। नीतीश ने कहा कि स्कूल में कक्षाएं सुबह 10 बजे से ही शुरू होंगी, लेकिन शिक्षकों को 15 मिनट पहले विद्यालय पहुंचना ही होगा।

दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को सदन के अंदर ऐलान किया था कि स्कूलों का समय 9 से 5 के बजाय 10 से 4 बजे तक किया जाएगा। इसके बाद एसीएस केके पाठक ने आदेश दिया कि भले ही कक्षाएं 10 से 4 के बीच चलेंगी। मगर शिक्षकों को सुबह 9 से शाम 5 बजे तक स्कूल में रहना होगा। 9 से 10 के बीच फिजिकल अटेंडेंस होगी, शाम में आखिरी एक घंटे में मिशन दक्ष की कक्षाएं चलाई जाएंगी। इस आदेश के बाद बच्चों और अभिभावकों के साथ ही शिक्षकों में भी कंफ्यूजन की स्थिति पैदा हो गई।

पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने कहा कि सीएम नीतीश के आदेश का शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक पालन नहीं कर ते हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के आदेश के अनुसार राज्य के स्कूलों के समय में बदलाव नहीं किया गया है। विधानसभा सत्र शुरू होने से ठीक पहले मीडिया से बातचीत में उन्होंने यह बयान दिया।

सीएम नीतीश क्या बोले-
केके पाठक के नए आदेश को लेकर विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही बुधवार को हंगामा हो गया। विपक्षी सदस्यों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इसके बाद सीएम नीतीश ने कहा कि स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई सुबह 10 बजे से शुरू होगी। मगर शिक्षकों को 15 मिनट पहले स्कूल आना होगा। टीचर बच्चों के स्कूल आने से 15 मिनट पहले आएंगे और उनके जाने के 15 मिनट बाद स्कूल से निकलेंगे।

नीतीश ने केके पाठक को बताया ईमानदार, विपक्ष पर भड़के
नीतीश कुमार ने एसीएस केके पाठक को ईमानदार अफसर बताया। विपक्षी विधायकों ने जब पाठक को पद से हटाने की मांग की तो सीएम भड़क गए। उन्होंने कहा कि विपक्ष को एक ईमानदार अधिकारी को हटाने की मांग करने का अधिकार नहीं है। यह मांग पूरी तरह गलत है। वह ऐसे अधिकारी हैं जो इधर-उधर का धंधा नहीं करते हैं।

मुर्दाबाद के नारे सुन आवेश में आए सीएम
विपक्षी विधायकों ने जब सदन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुर्दाबाद के नारे लगाए तो माहौल गर्मा गया। नीतीश ने विपक्षी सदस्यों से कहा कि आप हमारा मुर्दाबाद कर रहे हैं, हम आपका जिंदाबाद करेंगे। आप जिंदा रहिए, हमको मुर्दा करते रहिए। हमें जितना मुर्दा करेंगे, आप उतना ही खत्म हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में आप लोग बहुत कम संख्या में सदन में आएंगे, एक भी सीट नहीं मिलेगी। नारे लगाने हैं तो घर पर बैठे रहिए, यहां आने की जरूरत नहीं है।

शिक्षा मंत्री ने दूर की कंफ्यूजन
शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि शिक्षक संगठन एवं विभिन्न दलों के नेताओं ने सदन के बाहर कहा था कि स्कूल का समय बदला जाए। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कल ही घोषणा कर दी कि स्कूल के समय में बदलाव किया जाएगा। सुबह 9 से शाम 5 बजे तक जो स्कूल का समय है उसे 10 से 4 बजे तक किया जाए। शिक्षा विभाग द्वारा जारी पत्र में अगर किसी को कोई कंफ्यूजन है तो सीएम ने सदन में स्थिति स्पष्ट कर दी है। कक्षाएं भले ही सुबह 10 से शाम 4 बजे तक चलेंगी लेकिन शिक्षकों को 15 मिनट पहले स्कूल पहुंचना होगा। जो सरकार का फैसला है वही लागू होगा।