पूर्वोत्तर में कांग्रेस को झटका, AAP ने असम में उतारे अपने लोकसभा उम्मीदवार, अब क्या करेगी कांग्रेस ?

गुवाहाटी । विपक्षी दलों के INDIA गठबंधन की एकता को इस बार पूर्वोत्तर में एक और झटका लगा है। आम आदमी पार्टी (AAP) ने आगामी लोकसभा चुनावों के लिए तीन उम्मीदवारों की घोषणा की है, और कहा है कि कांग्रेस के साथ सीट बंटवारे को अंतिम रूप देने में देरी हो रही है।

AAP ने डिब्रूगढ़ सीट से मनोज धनोवर, गुवाहाटी से भाबेन चौधरी और तेजपुर से ऋषि राज कौन्टिन्या को मैदान में उतारा है। असम में 14 लोकसभा सीटें हैं।

गठबंधन की बाद महीनों से चल रही है

उम्मीदवारों के नामों की घोषणा करते हुए, AAP सांसद और राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) संदीप पाठक ने कहा कि INDIA गठबंधन के भीतर बातचीत “महीनों से” चल रही है। उन्होंने कहा कि, “हम अब बात करते-करते थक गए हैं। हमें चुनाव लड़ना है और जीतना है। समय नहीं है। हम पूरी तरह से इंडिया गठबंधन के साथ हैं और मुझे उम्मीद है कि गठबंधन ये तीन सीटें AAP को देगा।” पाठक ने कहा कि चुनाव जीतने के लिए समय और रणनीति महत्वपूर्ण कारक हैं। उन्होंने कहा कि, “हम कब तक बात करते रहेंगे? हमें काम करने की जरूरत है। हम दृढ़ता से INDIA गठबंधन के साथ हैं, लेकिन चुनाव जीतना प्राथमिकता है। हम जितनी तेजी लाएंगे, हमारी संभावना उतनी ही बेहतर होगी।

वे सीटें फिलहाल भाजपा के पास हैं

जिन तीन सीटों पर AAP ने उम्मीदवार उतारे हैं, वे सीटें फिलहाल भाजपा के पास हैं. लेकिन यह तथ्य कि AAP ने असम में कभी भी संसदीय सीट नहीं जीती है, तीन सीटों के लिए कांग्रेस के दावे का प्रतिकार हो सकता है। 2019 के चुनावों में, भाजपा ने नौ सीटें जीतीं और कांग्रेस को तीन सीटें मिलीं थीं। दरअसल, असम कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि उन्हें AAP के गुवाहाटी से चुनाव लड़ने पर कोई आपत्ति नहीं है। एक सूत्र ने कहा कि, ”लेकिन सीट बंटवारे पर फैसला केंद्रीय नेतृत्व को लेना है।

दिल्ली पंजाब जैसे राज्यों के विपरीत जहां INDIA गुट के सहयोगी कट्टर प्रतिद्वंद्वी हैं, कांग्रेस और AAP इकाइयां असम में सुखद संबंधों में हैं। कुछ हफ्ते पहले राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान AAP की असम इकाई भी इस यात्रा में शामिल हुई थी। लेकिन, हाल ही में असम में AAP का प्रत्याशी घोषित करना, कांग्रेस के लिए एक और हार है, जो कई क्षेत्रीय ताकतों द्वारा सीट-बंटवारे समीकरणों को अंतिम रूप देने में देरी को चिह्नित करने के बाद बैकफुट पर है।

अस्वीकार करने के बाद वह लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेंगी

इससे पहले, पश्चिम बंगाल की सीम और तृणमूल कांग्रेस (TMC) सुप्रीमो प्रमुख ममता बनर्जी ने घोषणा की है कि राज्य कांग्रेस द्वारा दो सीटों के लिए उनकी पार्टी की पेशकश को अस्वीकार करने के बाद वह लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेंगी। पंजाब में AAP नेता और मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा है कि वे सभी 13 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। विपक्षी गुट को उत्तर प्रदेश में भी खींचतान का सामना करना पड़ रहा है, जहां समाजवादी पार्टी ने 11 उम्मीदवारों की घोषणा की है, जबकि कांग्रेस के साथ बातचीत जारी है।