मुंबई दफ्तर में आज भाजपा पार्टी का आयोजन, अमित शाह के साथ अशोक चव्‍हाण भी लेंगे हिस्‍सा, आज ही एंट्री

Ashok Chavan's Exit: Congress fails to arrest plummeting morale of both  leaders and rank-and-file

नई दिल्‍ली । कांग्रेस छोड़ने वाले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण (Former Chief Minister of Maharashtra Ashok Chavan)आज भाजपा में शामिल हो सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि उनके साथ ही पूर्व एमएलसी अमर राजुरकर भी भाजपा का हिस्सा (part of BJP)होंगे। भाजपा के मुंबई स्थित दफ्तर (Mumbai office)में एक आयोजन होगा, जिसमें अशोक चव्हाण पार्टी का हिस्सा बनेंगे। यह आयोजन दोपहर 12:30 बजे होगा। इस मौके पर राज्य के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस और प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले मौजूद रहेंगे। चर्चा है कि अशोक चव्हाण को राज्यसभा भेजा जा सकता है। राज्यसभा प्रत्याशियों के लिए नामांकन की आखिरी तारीख 15 फरवरी है।

अशोक चव्हाण आज भाजपा पार्टी में एंट्री लेंगे

ऐसे में दो दिन का ही वक्त बचा है और अशोक चव्हाण आज पार्टी में एंट्री लेंगे तो फिर शाम या कल तक उनके नाम का ऐलान भी हो सकता है। अशोक चव्हाण तो चाहते थे कि वह दिल्ली में भाजपा में एंट्री करें और इस मौके पर होम मिनिस्टर अमित शाह भी मौजूद रहें। लेकिन भाजपा नेतृत्व ने उनसे कहा कि आप महाराष्ट्र से राज्यसभा आएंगे। इसलिए वहीं से एंट्री करें और वहां आपके साथ देवेंद्र फडणवीस और राज्य के अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले रहेंगे। चर्चा तो यह भी है कि अशोक चव्हाण के बाद कुछ और नेता भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आएंगे।

चव्हाण के बाद पूर्व MLC ने छोड़ी कांग्रेस

बीते सप्ताह ही कांग्रेस के सीनियर नेता बाबा सिद्दीकी ने एनसीपी जॉइन कर ली थी। अशोक चव्हाण के राज्यसभा जाने की अटकलें खुद उनके ही बयान से तेज हो गईं। उनका कहना था कि मैं अगले दो दिन में फैसला लूंगा। दो ही दिन राज्यसभा के नामांकन के लिए भी बचे हैं। ऐसे में उनके बयान से साफ हो गया कि वह राज्यसभा जाने की तैयारी में हैं। चर्चा यह भी है कि भाजपा एक उम्मीदवार अधिक उतारना चाहती है। कुल 6 सीटों पर इलेक्शन होना है और भाजपा 3 पर जीतने की स्थिति में है। एक सीट वह एकनाथ शिंदे और एक अजित पवार खेमे को देने जा रही है। इस तरह 5 सीटें एनडीए आसानी से जीत सकता है।

तीन और विधायक लेकर भाजपा जाएंगे अशोक चव्हाण

कांग्रेस कुल एक सीट जीत सकती है, लेकिन भाजपा की तैयारी उससे यह भी छीन लेने की है। इसीलिए अशोक चव्हाण को पार्टी ने तोड़ा है और कुछ विधायक भी यदि भाजपा संग आए तो फिर कांग्रेस कैंडिडेट के लिए जीत हासिल कर पाना मुश्किल होगा। गौरतलब है कि मराठवाड़ा क्षेत्र में अशोक चव्हाण का बड़ा जनाधार रहा है और उनके एग्जिट के बाद कांग्रेस इस इलाके में एक तरह से फेसलेस हो जाएगी।