एलके आडवाणी को भारत रत्न क्यों? मध्यप्रदेश के नेता प्रतिपक्ष ने चयन पर उठाए सवाल

नई दिल्‍ली । मध्यप्रदेश के नेता प्रतिपक्ष उमंग सिंघार ने भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न देने की घोषणा पर सवाल उठाए हैं। सोशल मीडिया पर उन्होंने लिखा- लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न देना देश के सर्वोच्च सम्मान का अपमान है।

 

उन्होंने आगे कहा कि मैं अभी तक नहीं समझ सका कि आखिर आडवाणी जी ने ऐसा कौन सा काम किया है कि उन्हें भारत रत्न देने का फैसला किया गया। उन्होंने आगे कहा कि यह देश भूला नहीं है कि देश में सांप्रदायिक उन्माद फैलाने में आडवाणी जी की बड़ी भूमिका रही है।

शिवराज सिंह चौहान से मांगा था उनका सरकारी आवास

जानकारी के अनुसार उमंग सिंघार गंधवानी विधानसभा से विधायक हैं। उन्हें दिसंबर 2023 में मध्यप्रदेश का नेता प्रतिपक्ष बनाया गया था। साल 2018 में उमंग सिंघार कांग्रेस की सरकार में वन मंत्री थे। उमंग सिंघार अकसर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। इससे पहले जनवरी को उन्होंने पूर्व सीएम शिवराज चौहान को आवंटित सरकारी आवास उन्हें देने की मांग की थी। उनका कहना था कि उस आवास में पूर्व में कभी उनकी बुआ और उपमुख्यमंत्री जमुना देवी रहती थीं, जिसके चलते उनका उससे लगाव है।

बीजेपी पर श्रेय लेने का आरोप लगया था

इसके अलावा उमंग सिंघार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के साथ विवाद के चलते भी सुर्खियां बटोर चुके हैं। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर पार्टी को कमजोर करने के आरोप लगाए थे। वहीं, हाल ही में नेता प्रतिपक्ष ने बीजेपी पर कांग्रेस के किए हुए कामों का श्रेय लेने का आरोप लगाया था। दरअसल, बीते दिनों मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने इंदौर में एलिवेटेड कॉरिडोर का भूमिपूजन किया था। नेता प्रतिपक्ष कहा कहना था कि यह पूरी योजना कांग्रेस सरकार के समय की है। लेकिन अब बीजेपी के सीएम इसका श्रेय ले रहे हैं।