देश की प्रगति का सही मापदंड गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा का उन्मूलन है : मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने शुक्रवार को 75वें गणतंत्र दिवस पर देश व दुनिया भर में रहने वाले सभी भारतीयों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। उन्‍होंने एक्स पर अपने संदेश में लिखा है कि देश की प्रगति का सही मापदंड गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा आदि का उन्मूलन तथा प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि है, न कि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का विकास या बड़े-बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों की पूंजी में इजाफा है। इसके लिए देश दावों एवं वादों के बजाय ठोस प्रगति की राह पर चले तो बेहतर होगा।

इस दौरान उन्होंने कहा कि यह वह खास मौका है जब देश के लोकतांत्रिक मान-मर्यादाओं व पवित्र संविधान के आदर्श मानवीय मूल्यों से आमजन को लाभान्वित कराने के प्रति सरकार को आत्म-चिन्तन करना भी जरूरी है।

मायावती ने एक्स पर यह भी लिखा है कि भारत का मानवतावादी संविधान देश के समस्त नागरिकों के न्याय व समतामूलक विकास के कल्याणकारी जीवन की गारंटी देता है। लेकिन इस पर पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा से अमल नहीं करने का परिणाम है कि यहां के अधिकतर लोग गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा आदि का त्रस्त जीवन जीने को विवश हैं।