जेल में बंद गैंगस्टर फिरौती के लिए कॉन्फ्रेंस कॉल पर लोगों को दे रहे धमकी, योगेश टुंडा ने पुलिस के सामने किया खुलासा

नई दिल्‍ली । जेल में बंद गैंगस्टर (Gangster)फिरौती के लिए कॉन्फ्रेंस कॉल (conference call)से फोन कर लोगों को धमकी दे रहे हैं। इस बात का खुलासा (exposure)जेल में बंद टिल्लू की हत्या के आरोपी योगेश टुंडा (Accused Yogesh Tunda)ने आउटर नॉर्थ पुलिस के सामने किया। अब पुलिस कॉन्फ्रेंस कॉल पर टुंडा को जोड़ने वाले की तलाश कर रही है।

दरअसल, अलीपुर, नरेला और नरेला इंडस्ट्रियल एरिया इलाके में कई कारोबारियों और बिल्डरों को योगेश टुंडा द्वारा फोन पर धमकी मिल रही थी, लेकिन कोई भी शख्स डर की वजह से पुलिस को नहीं बता रहा था। पुलिस को भी धमकी मिलने की सूचना मिल रही थी, लेकिन किसी ने शिकायत नहीं दी। इस पर डीसीपी रवि कुमार सिंह के निर्देश पर विशेष तौर पर दिसंबर में अलीपुर थाने में ओपन एफआईआर दर्ज की गई। इसमें पुलिस बिना शिकायतकर्ता या सबूत के सूचना के आधार पर एफआईआर दर्ज करती है।

[relpost]

पुलिस ने टुंडा के सहयोगी सुशील और हर्ष को पिस्टल के साथ गिरफ्तार किया। इसके बाद 19 दिसंबर को स्पेशल स्टाफ के एसआई नवीन गुर्जर की टीम ने मुठभेड़ में टुंडा के एक अन्य साथी करन थापा को मुखमेलपुर से धर दबोचा। बाद में प्रोडक्शन वारंट पर टुंडा से पूछताछ की गई।

अब तक 13 बदमाशों को गिरफ्तार किया

धमकी मिलने के बाद फायरिंग करने की भी कई घटनाएं हुई हैं। अब तक पुलिस ने 13 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इसमें दो मुठभेड़ में घायल भी हुए हैं। आउटर नॉर्थ इलाके में टिल्लू गैंग, गोगी गैंग, नीरज बवाना गैंग के बदमाश लोगों को डराने के लिए फोन करते हैं। इसमें योगेश टुंडा, अक्षय, नरेश सेठी और चीकू मान के नाम समय-समय पर सामने आते रहते हैं।

एक से डेढ़ लाख रुपये में जेल के अंदर आता है फोन

पुलिस पूछताछ में योगेश टुंडा ने खुलासा किया कि जेल में स्मार्टफोन पहुंचने की कीमत एक से डेढ़ लाख रुपये पड़ती है। मंडोली जेल के आसपास के फ्लैट से फोन को एक विशेष जगह पर फेंका जाता है। फिर वहां से संबंधित व्यक्ति तक मोबाइल पहुंचता है। फिलहाल पुलिस जेलकर्मियों की भी भूमिका की जांच कर रही है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आउटर नॉर्थ इलाके में गोदाम और इमारतें बड़े पैमाने पर बन रही हैं। इसके अलावा कई इंडस्ट्रियल एरिया भी इस जिले में हैं और पॉश इलाके में कई अस्पताल हैं। अब तक डॉक्टर, बिल्डर, उद्योगपति और कारोबारियों को कई धमकियां मिल चुकी हैं। चूंकि पुलिस से संपर्क करने की वजह से समय पर कार्रवाई की गई।

अमेरिका से इंटरनेट कॉल के जरिये जोड़ा जाता है

पुलिस पूछताछ में टुंडा ने बताया कि अमेरिका में छिपा उसका दोस्त मोंटी मान इंटरनेट कॉल करता था। कारोबारी को कॉन्फ्रेंस पर जोड़ दिया जाता था और पहले से जुड़ा टुंडा अपना परिचय देते हुए धमकी देकर रंगदारी मांगता था। कई बार वीडियो कॉन्फ्रेंस कॉल पर भी टुंडा धमकी देता था। इसकी वजह से पुलिस को टुंडा के खिलाफ सीधे कोई सबूत नहीं मिलता था।

हाल में हुईं घटनाएं

● 15 मई 2023 : हमीदपुर गांव के बिल्डर को योगेश टूंडा ने फोन कर एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी थी, रुपये नहीं देने पर परिजनों की हत्या की धमकी दी, अलीपुर थाने में एफआईआर दर्ज

● 20 अक्तूबर 2023 : नरेला स्थित नर्सिंग के संचालक डॉक्टर को योगेश टूंडा ने पहले फोन फिर ऑडियो क्लिप भेजकर एक करोड़ की रंगदारी मांगी, लगातार एक हफ्ते से फोन पर धमकी मिलने के बाद पीड़ित ने शिकायत दी, एफआईआर दर्ज

● तीन अगस्त 2023 : घोंघा गांव निवासी प्रॉपर्टी डीलर को योगेश टूंडा ने फोन पर रंगदारी मांगी, पांच करोड़ रुपये रंगदारी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी, एफआईआर दर्ज

– रवि कुमार सिंह, डीसीपी आउटर नॉर्थ, ”पुलिस अवैध वसूली की शिकायतों पर एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई कर रही है। अवैध वसूली के लिए विदेश और जेल से कारोबारियों को फोन किए जाते हैं। इससे निपटने के लिए टेक्निकल सर्विलांस से जुड़े उपकरणों का प्रयोग किया जा रहा है। लोग ऐसी किसी भी धमकी से डरने के बजाय पुलिस से जानकारी साझा करें।’