interim budget 2024: आयुष्मान भारत योजना का दायरा बढ़ा, मुफ्त इलाज की सुविधा में इन लोगों को भी जोड़ा

Budget 2024: Cover under Ayushman Bharat may increase from Rs 5 lakh to Rs  10 lakh - Budget 2024: आयुष्मान भारत के तहत कवर 5 लाख से बढ़कर हो सकता है  10 लाख | बजट 2024 News, Times Now Navbharat

नई दिल्‍ली । मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के अंतिम बजट में आयुष्मान योजना का दायरा बढ़ाने का ऐलान किया है। लोकसभा में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि आयुष्मान योजना में अब आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं और ASHA कार्यकर्ताओं को भी जोड़ा जाएगा।

उन्हें भी मुफ्त इलाज की इस सुविधा का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि देश के मेडिकल कॉलेजों में भी सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी। बता दें कि आयुष्मान योजना के तहत परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख तक के मुफ्त इलाज की सुविधा दी जाती है।

आशा वर्कर्स को क्या होगा फायदा?

अंतरिम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि आंगनवाड़ी सेंटर को अपग्रेड किया जाएगा. ‘ASHA’ वर्कर्स को आयुष्मान योजना का लाभ मिलेगा. सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम के लिए वैक्सीनेशन बढ़ाया जाएगा. सभी इलाकों में नैनो DAP का इस्तेमाल बढ़ाया जाएगा. इसके अलावा डेयरी किसानों की मदद के लिए सरकार योजना लाएगी.

बजट में महिलाओं के लिए बड़े ऐलान

बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने महिलाओं के लिए और भी कई बड़े ऐलान किए हैं. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि लखपति दीदियों की संख्या 2 करोड़ से बढ़ाकर 3 करोड़ करने का लक्ष्य है. युवाओं के लिए 1 लाख करोड़ के फंड की व्यवस्था की जाएगी. डिफेंस में डीप टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने के लिए योजना लाएंगे. इसके अलावा फाइनेंशिल ईयर 2025 में इंफ्रास्ट्रक्चर पर 11.1% ज्यादा खर्च किया जाएगा।

टीकाकरण को लेकर भी ऐलान

वित्त मंत्री ने कहा कि सर्वाइकल कैंसर को रोकने के लिए भी सरकार टीकाकरण लेकर आई है। लड़कियों को सर्वाइकल कैंसर का मुफ्त टीका लगाया जाएगा। इसके अलावा वित्त मंत्री ने कहा कि आंगनवाड़ी केंद्रों का विकास भी किया जाएगा।

क्या है आयुष्मान भारत योजना

इस योजना के तहत पात्र परिवारों को हर साल पांच लाख तक के निशुल्क उपचार का लाभ दिया जाता है। इसके लिए देश में सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को शामिल किया गया है। इस योजना के तहत भर्ती होने से एक सप्ताह पहले से ही जांचों और डिस्चार्ज होने के बाद 10 दिन तक का खर्च दिया जाता है। कैंसर, गुर्दा रोग समेत कई गंभीर बीमारियों का इलाज भी इस योजना के तहत किया जाता है।