‘गोडसे के वंशज शांति भंग कर रहे’, हनुमान ध्वज विवाद पर भड़के सीएम सिद्धारमैया

नई दिल्‍ली । कर्नाटक के मांड्या जिले में हनुमान ध्वज उतारने के मामले पर जारी हंगामे पर सीएम सिद्धारमैया ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है। सीएम ने आरोप लगाया कि नाथूराम गोडसे के वंशज राज्य की शांति को भंग कर रहे हैं।
मांड्या जिले के केरागोडु गांव में सोमवार को जिला प्रशासन ने 108 फीट ऊंचे स्तंभ से हनुमान ध्वज उतरवा दी थी, जिसका स्थानीय लोगों ने कड़ा विरोध किया था। भाजपा और जेडीएस इस मुद्दे पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

‘शांति भंग करने वाले गोडसे के वंशज’

इस पूरे विवाद पर सीएम सिद्धारमैया ने कहा ‘हमारे बीच ऐसे भी लोग हैं, जो गोडसे की पूजा करते हैं। हालांकि वे महात्मा गांधी की बात करते हैं। शांति भंग करने वाले गोडसे के वंशज हैं। लोगों को समाज में शांति के लिए प्यार और विश्वास के साथ रहना चाहिए। किसी को भी सांप्रदायिक भावनाएं भड़काने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।’ सीएम सिद्धारमैया ने आरोप लगाया कि राजनीतिक लाभ के लिए शांति भंग करने की कोशिश की जा रही है।

‘राजनीतिक लाभ हासिल करने की कोशिश’

सिद्धारमैया ने दोहराया कि केरागोडु पंचायत ने किसी धार्मिक या राजनीतिक झंडे की नहीं बल्कि राष्ट्रीय ध्वज या कर्नाटक ध्वज को फहराने की ही अनुमति दी गई थी। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘वे (केरागोडु में कार्यक्रम के आयोजक जिन्होंने भगवा झंडा फहराया था) कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति के लिए अपने लिखित आवेदन के खिलाफ क्यों गए? यह राजनीतिक लाभ हासिल करने और समाज में अशांति पैदा करने के लिए किया गया था।’

हनुमान ध्वज उतारने के जिला प्रशासन के फैसले पर भाजपा ने राज्य सरकार पर हमला बोला था। भाजपा ने इसके खिलाफ राज्य में जगह-जगह धरना प्रदर्शन किया। कई भाजपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। वहीं तनाव को देखते हुए मांड्या जिले के केरागोडु गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।