बिहार में ठंड बनी जानलेवा; 5 लोगों की मौत, मरने वालों में एक सिपाही और दो बच्चे शामिल

Maharshtra: Minor girl dies after plaster from house ceiling collapses |  India News - The Indian Express

नई दिल्‍ली । बिहार में भीषण शीतलहर (severe cold wave in bihar)से जनजीवन अस्तव्यस्त है। अब ठंड जानलेवा (cold kills)भी साबित हो रही है। राज्य में बुधवार को एक सिपाही (a soldier)और दो छात्रों सहित पांच की मौत हो गई। आशंका (apprehension)जताई जा रही है कि इन सभी की मौत ठंड लगने से हुई है। सभी मौतें अलग-अलग जिलों में हुई है। मरने वाले मुजफ्फरपुर, गोपालगंज , बक्सर, लखीसराय और छपरा के रहने वाले थे।

मुजफ्फरपुर के बोचहां में कक्षा 6 का छात्र कुर्बान सुबह स्कूल गया था। 10 बजे के बाद वह कांपता हुआ घर पहुंचा। घर आते-आते उसने बताया कि पैंट में ही शौच हो गई है। उसे चिकित्सक के पास ले जाया गया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो गई। मुजफ्फरपुर डीएम प्रणव कुमार ने कहा कि बोचहां में ठंड से बच्चे की मौत की सूचना है, जबकि दूसरी जगह एक बच्ची के बेहोश होने की सूचना है।

बुधवार को उनकी तबीयत बिगड़ी

वहीं, गोपालगंज के 45 वर्षीय शंभू राय पुलिस लाइन डेहरी में पदस्थापित थे। बुधवार को उनकी तबीयत बिगड़ी। उन्होंने दम तोड़ दिया। बक्सर के सिमरी रामोपट्टी में पटवन कर घर लौटे किसान चंद्रदीप राम की तबीयत बिगड़ी तो उन्हें स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। वहां से पीएमसीएच जाने के क्रम में चंद्रदीप ने दम तोड़ दिया।

लखीसराय के कजरा प्राथमिक विद्यालय श्रीघना में पहली का छात्र प्रार्थना के दौरान बेहोश हो गया। डॉक्टर के पास ले जाने के दौरान उसने दम तोड़ दिया। सारण के तरैया के खराटी गांव में 52 वर्षीय नागेश्वर ठाकुर की मौत हो गई।

मरने वालों में दो स्कूली बच्चे

बीते 24 घंटे के भीतर ठंड के चलते मरने वालों में दो स्कूली बच्चे भी शामिल हैं। शीतलहर को देखते हुए पूर्व में जिला प्रशासन की ओर से छोटे बच्चों के स्कूल बंद किए थे। मगर एसीएस केके पाठक ने सभी जिलों को आदेश जारी कर स्कूल तत्काल प्रभाव से खोलने को कहा। इसके बाद अधिकतर जिलों में स्कूल खोल दिए गए। हालांकि अभिभावक ठंड में अपने बच्चों को अब भी स्कूल भेजने से कतरा रहे हैं।

अभी राहत नहीं

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक बिहार में फिलहाल हाड़ कंपाने वाली ठंड से राहत नहीं मिलने वाली है। इस हफ्ते सर्दी का सितम जारी रहेगा। फरवरी महीने के पहले सप्ताह से शीतलहर का जोर कम होने की संभावना है।