करोड़ों रुपये के घोटाले में वास्तु शास्त्री खुशदीप बंसल गिरफ्तार, 65 करोड़ का घोटाला

नई दिल्ली। कभी संसद भवन निर्माण में खामी का दावा कर चुके वास्तु शास्त्री खुशदीप बंसल एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार असम पुलिस ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के साथ मिलकर उनके खिलाफ कार्रवाई की है। खबर है कि बंसल का नाम करोड़ों रुपये के घोटाले में सामने आया है। इस मामले में उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया गया है। खास बात है कि इस घोटाले से मध्य प्रदेश कांग्रेस के एक नेता के बेटे का नाम भी जुड़ रहा है।

सोमवार सुबह असम पुलिस ट्रांजिट रिमांड हासिल कर बंसल को असम ले गई है। उन्हें दिल्ली के बाराखंभा इलाके से गिरफ्तार किया गया था। राज्य में उनका नाम 65 करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल है। फिलहाल, कांग्रेस नेता के बेटे का नाम पुलिस की तरफ से उजागर नहीं किया गया है। खबर है कि असम पुलिस ने दिल्ली पुलिस आयुक्त से संपर्क कर बंसल के खिलाफ गैर जमानती वारंट होने की जानकारी दी थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला साल 2022 का है। दिल्ली के ही सभरवाल ट्रेडिंग कंपनी प्राइवेड लिमिटेड के कमल सभरवाल ने बंसल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इस घोटाले में कुल पांच आरोपी शामिल बताए जा रहे हैं। गुवाहाटी हाईकोर्ट की तरफ से इस मामले में तलाशी के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं।
एक रिपोर्ट के मुताबिक, बंसल ने कथित तौर पर दिल्ली पुलिस को बताया है कि उन्होंने कमल से एक शख्स की मुलाकात कराई थी, जिसके बाद वह खुद इस धोखाधड़ी में फंस गए। खास बात है कि बंसल कई सरकारी परियोजनाओं में भी कंसल्टेंट की भूमिका निभा चुके हैं। साथ ही वह कई कारोबारियों के साथ भी काम कर चुके हैं। साल 1997 में उन्होंने दावा किया था कि संसद के पुस्तकालय में वास्तुशिल्प दोष की वजह से सरकार स्थिर नहीं है।