किसान आंदोलन, हरियाणा के 12 जिलों में धारा 144 लागू की, सात जिलों में इंटरनेट सेवा बंद

चंडीगढ़। पंजाब के किसान संगठनों ने मांगों को लेकर दिल्ली कूच का ऐलान किया। इसके बाद रविवार को हरियाणा के 12 जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। सुबह छह बजे से सात जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। पंजाब के किसान संगठनों की केन्द्र सरकार के साथ सोमवार को वार्ता भी होगी।

रविवार को सुबह ही पुलिस महानिदेशक शत्रुजीत कपूर ने संवेदनशील जिलों के पुलिस अधीक्षकों के साथ बातचीत करके सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लिया। इस बीच सीआईडी ने रिपोर्ट दी है कि पंजाब के किसान संगठनों ने कूच करना शुरू कर दिया है और वह सोमवार की शाम तक हरियाणा की सीमा में जुट जाएंगे। इसके बाद 13 फरवरी को हरियाणा की सीमा में प्रवेश कर दिल्ली बार्डर पर कूच किया जाएगा।

हरियाणा सरकार ने राज्य के अंबाला, कुरूक्षेत्र, कैथल, जींद, फतेहाबाद, हिसार, सिरसा, सोनीपत, झज्जर आदि जिलों में धारा 144 लागू की गई है। इसके अलावा अंबाला, कुरूक्षेत्र, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद व सिरसा जिलों में रविवार की सुबह छह बजे से इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। इंटरनेट सेवाएं 13 फरवरी की रात 12 बजे तक बंद रहेंगी। इसके बाद स्थिति का रिव्यू करके अगले आदेश जारी किए जाएंगे। एक ओर पंजाब के किसानों ने हरियाणा के लिए कूच करना शुरू कर दिया है। वहीं, दूसरी तरफ केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया है।

यह बैठक सोमवार की शाम पांच बजे चंडीगढ़ में होगी। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से संयुक्त किसान मोर्चा के अध्यक्ष जगजीत सिंह डल्लेवाल तथा किसान मजदूर मोर्चा के अध्यक्ष सरवन सिंह पंधेर के नाम जारी किए गए पत्र में कहा गया है कि 12 फरवरी की शाम पांच बजे चंडीगढ़ के सेक्टर-26 स्थित महात्मा गांधी स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्टे्रशन पंजाब में बैठक आयोजित की गई है। जिसमें केंद्र सरकार की तरफ से केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, पीयूष गोयल तथा नित्यानंद राय भाग लेंगे। इस बैठक में किसानों के साथ बातचीत करके मामले को समाप्त करने का प्रयास किया जाएगा।