उत्‍तरी गाजा की एक चौथाई आबादी भुखमरी के कगार पर, हालात नही बदले तो फैलेगा अकाल: संयुक्त राष्ट्र

गाजा पर संयुक्त राष्ट्र ने किए हैरान करने वाले दावे; बताया 6 लाख लोगों का  होगा ये हाल | News in Hindi

नई दिल्ली । गाजा की कम से कम एक चौथाई आबादी यानी 5,76,000 लोग भुखमरी से सिर्फ एक कदम दूर हैं और पूरी आबादी खाद्य सामग्री की गंभीर जरूरत से जूझ रही है। इसके परिणामस्वरूप भूख से तड़प रहे लोग न सिर्फ राहत सामग्री वाले ट्रकों पर गोलियां चला रहे हैं बल्कि उन ट्रकों को लूट भी रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। संरा मानवतावादी कार्यालय और संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन के अधिकारियों ने गाजा के हालात का वर्णन करते हुए बताया कि युद्धग्रस्त गाजा की 23 लाख की पूरी आबादी खाद्य असुरक्षा के गंभीर खतरे या बदतर हालात से जूझ रही है।

वस्तुओं से लेकर अन्य मानवीय आपूर्ति की भारी कमी

इतना ही नहीं उत्तरी गाजा में हालात और ज्यादा खराब हैं, जहां लोगों को खाने-पीने की वस्तुओं से लेकर अन्य मानवीय आपूर्ति की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। गाजा के मौजूदा हालातों को बयां करते हुए संरा के मानवतावादी समन्वयक रमेश रामसिंघम ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बताया कि हालात के और भी ज्यादा खराब होने की पूरी आशंका है।

हालात में बदलाव नहीं आया गाजा में अकाल फैल जाएगा

उन्होंने कहा कि गाजा की एक चौथाई आबादी भुखमरी के कगार पर पहुंच चुकी है और उत्तरी गाजा में दो साल से कम उम्र के हर छह में से एक बच्चा कुपोषण का शिकार हो रहा है। विश्व खाद्य कार्यक्रम के उप कार्यकारी निदेशक कार्ल स्काऊ ने कहा कि गाजा में बच्चों के कुपोषण का यह स्तर दुनिया के किसी भी हिस्से में देखा गया अब तक का सबसे गंभीर स्तर है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर हालात में बदलाव नहीं आया तो उत्तरी गाजा में अकाल फैल जाएगा।