कौन हैं इल्हान उमर? सीमा विवाद पर टिप्पणी करने से होने लगीं ट्रोल, भारत को भी दिखा चुकी हैं तेवर

नई दिल्‍ली । अमेरिकी महिला सांसद इल्हान उमर (American female parliamentarian Ilhan Omar)एक बार से सुर्खियों में हैं. उनकी सोमालिया के समर्थन (support somalia)में की गई विवादास्पद टिप्पणी (controversial comment)के बाद काफी आलोचना हो रही है. अमेरिकी राजनेता ने हाल ही में अपने भाषण के दौरान सोमालिया का पुरजोर समर्थन करने की बात कही थी. मौजूदा समय में सोमालिया और सोमालीलैंड आमने-सामने हैं. दोनों देशों के बीच इस तकरार की वजह क्षेत्रीय सीमा विवाद है।

इल्हान उमर के कई वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहे हैं. एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर अपलोड हुए एक वीडियो को करीब 2.6 मिलियन बार देखा जा चुका है. वीडियो में उन्हें कहते हुए सुना जा सकता है कि सोमालिया के रहने वालों के रूप में एक दिन हम अपने खोए हुए क्षेत्रों के पीछे फिर से जाएंगे. इस बयान के बाद से इल्हान उमर लगातार सुर्खियों में हैं. लोग उनके बारे में जानने के लिए बेहद उत्सुक हैं।

कौन हैं इल्हान उमर?

उमर का पूरा नाम इल्हाम अब्दुल्लाही उमर है. इनका जन्म 4 अक्टूबर 1982 में सोमालिया के मोगादिशू शहर में हुआ था. उनकी मौजूदा उम्र 41 साल है. फिलहाल वह अमेरिका में रहती हैं और अमेरिकी डेमोक्रेटिक पार्टी की सदस्य हैं।

1991 में छोड़ दिया था अपना देश

1991 में सोमाली गृह युद्ध शुरू होने के बाद उन्हें अपना देश छोड़ना पड़ा. इस दौरान वह करीब 4 साल तक बेघर रहीं और केन्याई शरणार्थी शिविर में जीवन गुजारा. 1995 में उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रवास किया।

इल्हान उमर कांग्रेस में कार्यरत पहली सोमाली मूल की अमेरिकी महिला हैं. उन्होंने 2017 से 2019 के बीच मिनेसोटा प्रतिनिधि सभा में मिनियापोलिस के हिस्से का प्रतिनिधित्व किया।

इजरायल और भारत पर भी कर चुकी हैं टिप्पणियां

यह पहली बार नहीं है जब उमर को अपनी बेतुकी बयानबाजी की वजह से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. इससे पहले फरवरी 2023 में रिपब्लिकन पार्टी ने इजरायल के खिलाफ की गई टिप्पणियों के लिए उनकी जमकर आलोचना की थी।

पार्टी का आरोप था कि उन्होंने यहूदी विरोधी भावना को ठेस पहुंचाया है. इस दौरान उन्हें उनके पद से हटाने के लिए भी मतदान किया गया था. जब यह मतदान हुआ तब वह विदेश मामलों की समिति में कार्यरत थीं. उमर को भारत विरोधी भी जाना जाता है. साल 2022 में उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे वाली कश्मीर यात्रा के दौरान भारत की काफी आलोचना की थी।