ब्रिटेन में बाढ़ के चलते घरों में भरे पानी के बीच लोगों को बाहर निकाला, खराब मौसम से यात्रा में भी बाधा

लंदन । ब्रिटेन में एक सप्ताह की भारी बारिश के बाद सैकड़ों घरों में भरे पानी के बीच से लोगों को न‍िकाला गया है। लंबे समय तक खराब मौसम के कारण भी यात्रा में भी बाधा आई है। समाचार एजेंसी श‍िन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पर्यावरण एजेंसी ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि इस सप्ताह इंग्लैंड में लगभग एक हजार स्‍थानों पर बाढ़ आ गई है।

लंदन फायर ब्रिगेड ने शुक्रवार को कहा कि गुरुवार रात पूर्वी लंदन के हैकनी विक में एक नहर टूटने के बाद घरों में पानी घुसने से लगभग 50 लोगों को बाहर निकाला गया। इस बीच, नॉटिंघमशायर में ट्रेंट नदी के किनारे के निवासियों को बाढ़ के खतरे वाले क्षेत्रों में निकासी के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है। इस सप्ताह की शुरुआत में, मौसम कार्यालय ने भारी बारिश के लिए येलो अलर्ट जारी क‍िया था।

मुख्य रूप से तूफ़ान हेंक के कारण देश भर में एक सप्ताह तक लगातार बारिश के बाद, शुक्रवार की सुबह इंग्लैंड में 500 से अधिक बाढ़ की चेतावनियां और अलर्ट जारी किए गए थे। देश में रेल सेवाएं भी बाढ़ से प्रभावित हुईं। ट्रेन ऑपरेटर ग्रेट वेस्टर्न रेलवे ने सेवाओं में कमी या रद्द करने की चेतावनी दी।

लंदन में टेम्स पर एक लाइफबोट स्टेशन ने नावों से नदी से दूर रहने का आग्रह किया, जो किंग्स्टन क्षेत्र में “वर्तमान में पिछले शुक्रवार की तुलना में दोगुनी तेजी से चल रही है और बेहद शक्तिशाली है। बारिश से हुई तबाही पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, लेबर पार्टी ने प्रधान मंत्री ऋषि सनक पर बाढ़ की चेतावनी के बावजूद ध्‍यान न देने का आरोप लगाया।