न्यू ईयर काउंटडाउन -9 :नए अंग्रेजी वर्ष 2023 का सूर्योदय शुभ महायोग में; इस वर्ष संवत् 2080 के अंतर्गत भूमंडल पर पढ़ेंगे 6 ग्रहण

0
591
ज्योतिषाचार्य डॉं. सतीश सोनी

ग्वालियर ।अजयभारत न्यूज
वर्ष 2022 की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। हर किसी को प्रतीक्षा है। नए वर्ष 2023 की नया साल सभी के लिए नई उम्मीद, नए सपने, नया लक्ष्य और नई चुनौतियां से रूबरू कराने वाला होगा। जो लोग ज्योतिष शास्त्र पर यकीन रखते हैं। उन्हें जिज्ञासा रहती है। कि हमारे लिए नया साल क्या लेकर आएगा। नए साल के पहले दिन की शुरुआत शुभ योगों में होने जा रही है। कहा जाता है कि अगर नया साल के पहले दिन की शुरुआत अच्छी हो तो पूरा साल बढ़िया रहता है।
बालाजी धाम काली माता मंदिर के ज्योतिषाचार्य डॉं सतीश सोनी के अनुसार साल 2023 के पहले दिन शिव योग रवि योग,शशयोग, और सिद्धि योग के साथ सर्वार्थ सिद्धि योग जैसे महायोग बन रहे हैं। रविवार का दिन ग्रहों के देवता सूर्य देव को समर्पित है। इसलिए साल 2023 में सूर्य का प्रभाव अधिक रहेगा। ग्रह के गोचर की अगर बात करें, तो 1 जनवरी 2023 को सूर्य, बुध धनु राशि में, शुक्र, शनि मकर में, गुरु मीन में, चंद्र राहु मेष में, केतु तुला में रहेंगे। वही नए वर्ष का सूर्य उदय सुबह 6:54 पर होगा। साल के पहले दिन सूर्य रवि तिथि में शनि देव एवं देव गुरु बृहस्पति अपनी राशि में रहेंगे। ग्रहों की यह स्थिति सर्वोत्तम एवं बेहद शुभकारी होगी। ज्योतिष शास्त्र बताता है। कि जब भी कोई ग्रह अपने घर में निवास करता है। तो सभी राशियों के लिए बेहतर परिणाम देता है।
संवत 2080 के अंतर्गत भूभाग पर रहेगा 6 ग्रहण का साया
हिंदू नव वर्ष संवत 2080 के अंतर्गत इस बार भूमंडल पर 6:00 ग्रहणो का साया रहेगा। जिसमें से 3 सूर्य ग्रहण होंगे। तथा तीन चंद्र ग्रहण घटित होगे। परंतु भारतवर्षीय भूभाग मैं तीन सूर्य ग्रहण और एक चंद्रग्रहण दृश्य नहीं होगा। इन 6 ग्रहणो के एक साथ होने के कारण प्राकृतिक आपदाओं का समय से ज्यादा प्रकोप देखने को मिलेगा। जिसमें भूकंप, बाढ़, सुनामी, विमान दुर्घटनाएं ,किसी बड़े गुनाहगार का देश में वापसी आने का संकेत मिल रहे हैं। लेकिन इन प्राकृतिक आपदा में जनहानि कम ही होने की संभावना रहेगी।
संवत 2080 में कुछ इस तरह से रहेंगे ग्रहण
20/4/ 2023 दिन गुरुवार खंडग्रास सूर्यग्रहण यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा।
14 /१०/ 2023 दिन शनिवार कंकण खंडग्रास सूर्यग्रहण यह ग्रहण भी भारत में दृश्य नहीं होगा।
8/4 /2024 खग्रास सूर्य ग्रहण यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा।
25/3 /2024 दिन सोमवार चंद्र ग्रहण यह ग्रहण भी भारत में दृश्य नहीं होगा। यह एक उप छाया। ग्रहण होगा
5/5 /2023 दिन शुक्रवार चंद्र ग्रहण यह भारत में दृश्य होगा।
28/10/ 2023 दिन शनिवार खंडग्रास चंद्र ग्रहण यह भी भारत में दिखाई देगा।
आज खास 
वर्ष 2022 की आखरी षौष अमावस्या रहेगी बेहद खास
ग्वालियर ।साल खत्म होने की कगार पर है। ऐसे में साल 2022 की आखिरी षौष अमावस्या 23 दिसंबर को है। पौष अमावस्या तिथि का खास महत्व हिंदू धर्म में है। इस दिन पितरों की आत्मा शांति के लिए श्राद्ध और तर्पण आदि करने का विधान शास्त्रों में बताया गया है। वही शास्त्रों में पौष अमावस्या को छोटा पितृपक्ष भी कहा जाता है। इसलिए इस माह में पितरों के लिए तर्पण, श्राद्ध और पुण्य कर्म आदि करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है।
बालाजी धाम काली माता मंदिर के ज्योतिषाचार्य डॉं सतीश सोनी के अनुसार इस साल षौष अमावस्या पर एक ऐसा शुभ बेहद संयोग बन रहा है। जिससे यह दिन पितरों के साथ मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए बेहद खास रहेगा। दरअसल षौष अमावस्या 23 दिसंबर को है। और इस दिन शुक्रवार है और यह दिन माता लक्ष्मी के लिए समर्पित है। ऐसे में किए गए उपाय पितरों के साथ मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कर दोहरा लाभ दिलाएगा ।
क्या करें इस दिन दान
गर्म ऊनी वस्त्र, तिल, तेल, जूते, आवला, फल, आटा, शक्कर ,चावल, शहद, घी, दर्पण आदि।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY