पीएम गति शक्ति:चीन में ताला लगाने को तैयार है भारत;100 लाख करोड़ रुपए खर्च करने का है प्लान

0
95

नई दिल्ली ।एजेंसी
केंद्र की मोदी सरकार एक ऐसी योजना पर काम कर रही है, जिसके जमीन पर उतर जाने से भारत, अमेरिका और चीन जैसे देशों की कतार में खड़ा हो जाएगा. वहीं इस योजना के जरिए वो सभी अटके सरकारी काम और योजनाएं पूरी कर ली जाएंगी जो सालों से अधर में लटकी पड़ी हैं. इन अटकी योजनाओं को पीएम गति शक्ति मिशन के तहत किया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2021 को “पीएम शक्ति मिशन” की घोषणा की थी. इस योजना के तहत देश के इफ्रांस्ट्रक्चर पर काम करना है.
पीएम शक्ति मिशन के बारे में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि यह देश में इफ्रांस्ट्रक्चर की चुनौतियों से निपटने के लिए एक समग्र योजना है. बता दें कि पीएम मोदी से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक फरवरी 2022 को अपने बजट भाषण में कई बार पीएम शक्ति मिशन का जिक्र किया था. सीतारमण ने खासतौर से अपने भाषण में हाइवे और रेलवे प्रोजेक्ट्स पर जोर दिया था. लेकिन क्या आप जानते हैं कि पीएम गति शक्ति मिशन क्या है? इसका उद्देश्य क्या है और इससे आपको क्या फायदा होगा? आइए पीएम गति शक्ति मिशन के बारे में जानते हैं.
100 लाख करोड़ की योजना
दरअसल, पीएम गति शक्ति मिशन भारत सरकार की 100 लाख करोड़ रुपए की योजना है. जिसका मकसद इफ्रांस्ट्रक्चर क्षेत्र में रिफॉर्म लाना है. इस योजना के तहत भारत सरकार के अलग-अलग मंत्रालयों के अंतर्गत चल रहे विभिन्न इफ्रांस्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स में तालमेल के साथ में उन्हें पूरा करना है. वहीं इस मिशन के तहत मोदी सरकार ने 16 मंत्रालयों को एक जगह लाया गया है, जो समन्वय के साथ काम करेंगे. इसमें रेलवे, सड़क एवं राजमार्ग, पेट्रोलियम एवं गैस, टेलीकॉम, पावर, एविएशन और शिपिंग जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय शामिल हैं.

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY