कैलाश विजयवर्गीय, शिवराज सिंह चौहान… एक सप्ताह में एमपी के दो दिग्गज ‘OUT’

0
120

राजनीतिक विशेषज्ञ हैरान; क्या 2023 से पहले कुछ बड़ा होगा?
भोपाल।अजयभारत न्यूज
2024 में लोकसभा चुनाव है। इससे पहले 2023 में हिंदी भाषी राज्यों के तीन बड़े राज्य में विधानसभा चुनाव हैं। इसे लेकर बीजेपी में बदलाव की शुरुआत हो गई है। बीजेपी की नजर अभी मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ पर है। छत्तीसगढ़ में एक सप्ताह के अंदर दो बड़े बदलाव हुए हैं। प्रदेश अध्यक्ष से लेकर नेता प्रतिपक्ष तक के चेहरे बदल गए हैं। एमपी में भी सुगबुगाहट शुरू है। एक सप्ताह के अंदर एमपी के दो बड़े नेता राष्ट्रीय स्तर के संगठन में जिम्मेदारी से मुक्त कर दिए गए हैं। इनमें सबसे बड़ा चेहरा तो एमपी सीएम शिवराज सिंह चौहान का है। वहीं, पिछले दिनों बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को पश्चिम बंगाल के प्रभारी पद से मुक्त कर दिया गया है। इन बदलावों से यह संकेत मिल रहा है कि 2023 से पहले एमपी में कुछ बड़ा होने वाला है।
—————————————- और इधर —————————————
राजनीतिक विशेषज्ञ हैरान
बीजेपी प्रवक्ता ने कहा, पार्टी चाहती है वह 2023 एमपी विधानसभा चुनावों पर केंद्रित करें ध्यान
भोपाल।अजयभारत न्यूज
दो निर्णायक पदों से शिवराज सिंह को बाहर करने से राजनीतिक विशेषज्ञ आश्चर्य में हैं।चौहान भाजपा शासित राज्य के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री पद पर रहने वाले नेता हैं और उन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के एक साल बाद अगस्त 2014 में संसदीय बोर्ड में शामिल किया गया था। हालाँकि, चौहान को हटाने को राजनीतिक विशेषज्ञ उनके लिए एक झटका मान रहे हैं।
राजनीतिक विशेषज्ञ गिरिजा शंकर ने कहा, “इस फैसले के पीछे के लॉजिक को समझना बहुत कठिन है क्योंकि चौहान की जगह पार्टी में अलोकप्रिय चेहरे ले लिए गए हैं लेकिन यह निश्चित रूप से मध्य प्रदेश में राजनीति को बदल देगा। यह पार्टी का एक बहुत ही आश्चर्यजनक निर्णय है क्योंकि चौहान की छवि अभी भी जनता और पार्टी के लोकप्रिय नेताओं में से एक है” हालांकि कांग्रेस ने इसे विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की दिशा में एक कदम बताया है।
एक अन्य राजनीतिक विशेषज्ञ दिनेश गुप्ता ने कहा, “यह मध्य प्रदेश की राजनीति में एक बड़ा डेवलपमेंट है और चौहान को बोर्ड और सीईसी से हटाना राज्य नेतृत्व में संभावित बदलाव का संदेश है।” उन्होंने आगे कहा, “यह निर्णय चौहान के राजनीतिक करियर में सेंध लगाने वाला है और यह अफवाहों को हवा देगा कि वह 2023 के चुनाव में मध्य प्रदेश में भाजपा का चेहरा नहीं होंगे।”
कांग्रेस ने कहा,बदलाव का समय है
कांग्रेस के वरिष्ठ और राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता डॉ . गोविंद सिंह ने कहा, “केंद्रीय भाजपा नेतृत्व ने चौहान को संदेश दिया है कि यह बदलाव का समय है। उनके अनुभव को देखते हुए हम सोचते थे कि वह 2023 के बाद केंद्र में चले जाएंगे लेकिन अब पार्टी उन्हें प्रमुख पदों पर रखने के मूड में नहीं है।
नेतृत्व में कोई बदलाव नहीं:भाजपा
अधिकांश राज्य भाजपा नेताओं ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। हालांकि, भाजपा प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा, ‘यह एक नियमित प्रक्रिया है और नए लोगों को अवसर देना भाजपा की नीति का हिस्सा है’ उन्होंने कहा, “सीएम शिवराज सिंह चौहान की स्थिति में बदलाव की अटकलें निराधार हैं क्योंकि कई भाजपा मुख्यमंत्री हैं जो बोर्ड और सीईसी का हिस्सा नहीं हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी स्थिति खतरे में है। हम इस फैसले पर विचार कर रहे हैं क्योंकि पार्टी चाहती है कि सीएम चौहान केवल 2023 के चुनाव पर ध्यान केन्द्रित रहेगा।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY