देवउठनी ग्यारस से बजेंगी शहनाइयां, नवंबर-दिसंबर में केवल 16 मुहूर्त

0
4

ग्वालियर । अजयभारत न्यूज
दीपावली के बाद अब लोगों को विवाह मुहूर्त शुरू होने का इंतजार है। मुहूर्त 15 नवंबर को देव उठनी एकादशी से शुरू होते ही विवाह की शहनाइयां गूंजने लगेंगी। हालांकि इस साल 13 दिसंबर तक कुल 16 दिन ही मुहूर्त है। इतने कम दिन मुहूर्त होने के कारण शहर में इस अवधि में करीब ढाई से तीन हजार जोड़े दाम्पत्य सूत्र में बंधेंगे, ऐसा पंडितों का अनुमान है। किन्ही कारणों से जो लोग अभी विवाह नहीं कर पा रहे हैं, उन्होंने आगामी 15 जनवरी से शरू होने वाले मुहूर्तों में मैरिज गार्डन की अभी से बुकिंग शुरू कर दिया है। खास बात यह है कि नए साल 2022 में कुल विवाह मुहूर्त तो करीब 60 दिन मिलेंगे, परंतु शुरुआती महिनों में मार्च में एक भी मुहूर्त नहीं है, जबकि अप्रैल में केवल पांच दिन ही मुहूर्त होंगे। सर्वाधिक मुहूर्त मई व जून में रहेंगे।
देव उठनी एकादशी पर 15 नवंबर से विवाह मुहूर्त शुरू होंगे, जो 13 दिसंबर तक रहेंगे। इन दो माहों में विवाह के लिए कुल 16 दिन ही मुहूर्त है। इन मुहूर्त में शहर में करीब तीन हजार जोड़े दाम्पत्य सूत्र में बंधेंगे। पंडितों के पास जोड़ों के कुंडली मिलान के लिए आने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। कई लोगों ने तो मैरिज गार्डन की बुकिंग कराना भी शरू कर दिया है।
———————–
अभी विवाह नहीं तो महीने भर करना होगा इंतजार
पं. सुरेश शास्त्री का कहना है कि इन मुहूर्तों में जो लोग विवाह नहीं कर पाएंगे, उन्हें फिर एक माह तक इंतजार करना होगा। इसके बाद मुहूर्त आगामी नए वर्ष 2022 में 15 जनवरी से प्रारंभ होंगे, जो फरवरी तक रहेंगे। मार्च में मुहूर्त नहीं रहेंगे। इसके बाद अप्रैल में केवल दूसरे सप्ताह से मुहूर्त प्रारंभ होंगे और वह भी केवल पांच दिन रहेंगे। इस कारण बहुत से परिवारों में विवाह योग्य युवक-युवतियों के विवाह इन दो माहों के मुहूर्त में ही किए जाने की तैयारियां की जा रही हैं।
———–
ग्यारस पर अबूझ मुहूर्त
पं. सुरेश शास्त्री के अनुसार वैसे विवाह मुहूर्त 19 नवंबर से प्रारंभ होंगे, परंतु इसके पूर्व 15 नवंबर को देव उठनी एकादशी का दिन अबूझ मुहूर्त वाला होता है, इसलिए इस दिन भी विवाह किया जा सकता है। इस बार भी इस दिन विवाह होंगे। इसके बाद 19 से ही शहनाइयां बजेंगी।

LEAVE A REPLY