विरासत पर सियासत …एक ही महीने में दूसरी बार मनेगी राजमाता की जयंती, ज्योतिरादित्य मना चुके अब बुआ यशोधरा राजे ने किया आयोजन

0
6

ग्वालियर । अजयभारत न्यूज
भाजपा की आधार स्तंभ रही राजमाता विजयराजे सिंधिया की जयंती ग्वालियर चंबल अंचल में सुर्खियों में हैं. आपको बता दें कि 12 अक्टूबर को बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भव्य तरीके जोरशोर से राजमाता की जयंती का आयोजन किया था. अब 24 अक्टूबर को एक बार फिर राजमाता विजयाराजे सिंधियां की जयंती मनाई जाएगी. इसे मनाएंगी ज्योतिरादित्य की बुआ और प्रदेश की बीजेपी सरकार में मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया. यशोधरा 24 अक्टूबर को तिथि के हिसाब से राजमाता की जयंती मनाएंगी. इस पूरे मामले में कांग्रेस ने चुटकी लेते हुए कहा है कि राजमाता की विरासत को संभालने की लड़ाई अब सड़कों पर दिखाई देने लगी है.
24 अक्टूबर को होने वाले के जयंती कार्यक्रम में शामिल होने के लिए यशोधरा राजे ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को आमंत्रण भेजा है. बताया जा रहा है कि इसके लिए स्वीकृति भी दे दी है. खास बात यह है कि चंबल अंचल में नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रतिद्वंदी के तौर पर देखा जाता है. राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की जानकारी मिली है. वहीं सिंधिया परिवार के करीबी और ग्वालियर के मौजूदा सांसद विवेक शेजवलकर का कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तारीख के हिसाब से अम्मा साहब की जयंती मनाई थी वहीं यशोधरा राजे सिंधिया जन्म तिथि के आधार पर मना रही हैं. उन्होंने कहा कि वे पहले भी गए थे और अब भी जाएंगे. शेजवलकर का कहना है कि इस निजी कार्यक्रम के राजनीतिक मायने नहीं निकालने चाहिए.

LEAVE A REPLY