केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा- कांग्रेस के समय में न सड़कें थी, न पानी

0
18

सतना-भोपाल । अजयभारत न्यूज
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि प्रदेश के अंदर 2003 से पहले कांग्रेस की सरकार थी। इनकी सरकार में घोर अंधकार था, पानी का संकट था, सड़कें थी नहीं। कांग्रेस के इन लुटेरे पहरेदारों ने प्रदेश का सर्वनाश करके रख दिया। लेकिन 2003 से 2018 तक भाजपा ने प्रदेश के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। कांग्रेस के शासनकाल में प्रदेश में 7 लाख हेक्टेयर जमीन पर सिंचाई होती थी, लेकिन भाजपा ने इसे 47 लाख हेक्टेयर तक पहुंचा दिया है। कृषि मंत्री रैगांव विधानसभा में विजय संकल्प सभा एवं किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इससे पहले उन्होंने सतना भाजपा कार्यालय में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक भी ली।
—————————————————–
अब लोग मध्यप्रदेश की खेती-किसानी देखने आते हैं
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में पानी और बिजली ने किसानों को कभी आगे नहीं बढ़ने दिया। किसान डीजल इंजन चलाकर अपने खेतों में पानी देता था। पहले खेती की बात होती थी तो लोग कहते थे कि पंजाब, हरियाणा जाकर खेती देखो। वहां का किसान कितना सक्षम है, लेकिन अब लोग कहते हैं कि खेती-किसानी मध्यप्रदेश की देखनी चाहिए। यहां के किसान खेती-किसानी में नए-नए प्रयोग कर रहे हैं, नई-नई फसलें उगाकर अपनी आय को दोगुना कर रहे हैं। यह आमूलचूल परिवर्तन भारतीय जनता पार्टी की सरकार की ईमानदारी, उसकी दृष्टि, संवेदनशीलता का परिणाम है। श्री तोमर ने कहा कि जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी और हम विपक्ष में थे। उस समय प्रदेशभर में अंधेरा पसरा रहता था। हमने इस अंधेरे को मिटाने के लिए सड़क पर उतरकर लड़ाई लड़ी।
————————————-
भाजपा नहीं, तो विकास भी नहीं है
श्री तोमर ने कहा कि मैं देश के लिए तो कृषि मंत्री हूं, लेकिन मध्यप्रदेश के लिए मैं भाजपा का आम कार्यकर्ता हूं। युवा मोर्चा में काम के दौरान सतना में भी खूब प्रवास हुए। तभी से सतना की स्थिति को देखते हुए आ रहे हैं। तब यहां पर न तो सड़कें हुआ करती थीं, न शिक्षा के लिए बेहतर व्यवस्थाएं थीं। लेकिन अब सतना का चेहरा बदल गया है। उन्होंने कहा कि विकास के मामले में जब तक भाजपा है तब तक कोई कमी नहीं होगी, लेकिन भाजपा नहीं है तो विकास भी नहीं है।
———————————-
बदलेगी छोटे किसानों की तस्वीर-तकदीर
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने छोटे किसानों की तकदीर और तस्वीर बदलने के लिए देशभर में 10 हजार एफपीओ खोलने की योजना बनाई है। इसके लिए 300 किसानों का समूह होना चाहिए जिसमें छोटे किसान शामिल होना चाहिए। इन किसानों को विभिन्न योजनाओें के जरिए लाभ दिया जाएगा। प्रधानमंत्री ने किसानों के लिए एक लाख करोड़ रूपए का प्रबंध किया है। कृषि मंत्रालय को अब तक 10 हजार करोड़ रूपए के प्रोजेक्ट प्रस्तुत किए गए हैं। उन्होंने कहा कि देशभर में इस समय खाद की किल्लत चल रही है, लेकिन हमारी पूरी कोशिश है कि किसानों को खाद की कमी नहीं आनी दी जाएगी।

LEAVE A REPLY