इलाज के साथ-साथ बेहतर डॉक्टर बनाना भी हमारा लक्ष्य: डॉ अविनाश शर्मा

0
0

मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ अविनाश शर्मा के साथ साक्षात्कार
ग्वालियर ।अजयभारत न्यूज
मरीजों के बेहतर इलाज के साथ-साथ बेहतर डॉक्टर बनाना भी हमारा लक्ष्य है। साथ ही चिकित्सा शिक्षकों, प्रशासन व मरीजों के बीच परस्पर विस्वास व सकारात्मक माहौल बनाए रखना भी हमारी प्राथमिकता है। यह बात मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष जीआर मेडिकल कॉलेज में न्यूरोसर्जरी विभाग के अध्यक्ष व जयारोग्य अस्पताल में न्यूरोसर्जरी रोग विशेषज्ञ डॉ अविनाश शर्मा ने एक विशेष साक्षात्कार में कही। उन्होंने चर्चा में आगे कहा कि चिकित्सा- शिक्षकों के ईपीएफ,वेतनमान, पदोन्नति आदि से जुड़े मामलों को वे प्रमुखता से निराकरण की ओर ले जाएंगे।
———————————-
चिकित्सकों का परिसर में आवास नहीं होने से इमरजेंसी इलाज में आती है बाधा
चिकित्सा-शिक्षकों को अस्पताल परिसर में आवास नहीं मिलने के कारण कभी कभी मरीजों के इमरजेंसी इलाज में बाधा आती है। इसलिये हमारा प्रयास रहेगा कि चिकित्सा-शिक्षकों को परिसर में ही रहने के लिये आवास की व्यवस्था की जाए। ताकि जरूरत पड़ने पर मरीजों को तत्काल इमरजेंसी इलाज दिया जाए।
———————————-
वार्ड में डॉक्टर्स का चेंबर नहीं होने के कारण पीजी एजुकेशन में आती है परेशानी
डॉ.शर्मा ने कहा कि जीआर मेडिकल कॉलेज में पोस्ट-ग्रेजुएशन करने के लिये देश भर से चिकित्सा छात्र आते हैं। जो अपना शैक्षणिक कार्य करने के साथ-साथ मरीजों का इलाज भी करते हैं। लेकिन वार्ड में चिकित्सा-शिक्षक डॉक्टर्स के प्रथक चैंबर नहीं होने के कारण वे पीजी छात्रों को बीमारी को लेकर ज्यादा समझा नहीं पाते। इस कारण मरीज के इलाज व उनकी शिक्षा की गुणवत्ता पर थोड़ा प्रभाव पड़ता है। इसलिये मेरा प्रयास वार्ड में हर डॉक्टर को पृथक चेंबर दिलाने का रहेगा।
——————————-
कोरोना में शहीद हुये चिकित्सकों के नाम बनेगा स्मृति वन
एमटीए के अध्यक्ष डॉ अविनाश शर्मा ने कहा कि कोरोना में शहीद हुये चिकित्सकों की स्मृति में अस्पताल परिसर में पौधा-रोपण किया जाएगा।
——————-
डॉक्टर्स के लिये आयोजित होंगे हैप्पीनेस सेमिनार
मरीजों की पीड़ा को दूर करते- करते डॉक्टर्स कहीं न कहीं काफी गम्भीर स्वभाव के हो जाते हैं। इसलिये उनके मूल हैप्पीनेस स्वभाव को बनाए रखने के लिये कॉलेज में कई संस्कृति कार्यक्रम व हैप्पीनेस सेमिनार आयोजित किये जाएंगे। साथ ही परिसर में टेनिस-कोर्ट व बैडमिंटन कोर्ट को पुनः शुरू किया जाएगा।
—————————
जिस कॉलेज में छात्र थे,वहीं चिकित्सा-शिक्षक फिर एसोसिएशन के अध्यक्ष बने
डॉ अविनाश शर्मा जीआर मेडिकल कॉलेज के ही छात्र रहे हैं। यहीं से उन्होंने सर्जरी से एमएस किया,उसके बाद न्यूरोसर्जरी में सुपर स्पेशलाइजेशन किया। 2005 में वे यहां न्यूरोसर्जरी विभाग में चिकित्सा शिक्षक बने। और मेडिकल कॉलेज में अपने चिकित्सा कार्यों के करण डॉक्टर्स के बीच मिली लोकप्रियता से सर्वसम्मति से निर्विरोध मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष चुने गए।

LEAVE A REPLY