ब्लैक फंगल के उपचार के लिए अलग वार्ड बनाए:सीएम शिवराज सिंह

0
21

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
रविवार दोपहर 12.30 बजे सीएम  शिवराज सिंह विशेष विमान से ग्वालियर एयरपोर्ट पर पहुंचे। यहां एयरपोर्ट पर उतरने के साथ ही वह कलेक्टोरेट के लिए निकले। उनके साथ में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी थे, जबकि केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर पहले ही पहुंच गए। बैठकों में भाग लेने के बाद रविवार शाम 4 बजे सिविल एयरपोर्ट से विशेष विभाग के जरिए भोपाल के लिए रवाना हो गए हैं।
कलेक्टोरेट में बैठक के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कोरोना के बाद ब्लैक फंगल को नई समस्या बताया है। साथ ही कलेक्टर ग्वालियर से ब्लैक फंगल के उपचार के लिए ग्वालियर मेडिकल कॉलेज में अलग से स्पेशल वार्ड बनाने के लिए कहा है। जिससे इस बीमारी से पीड़ित को ठीक से उपचार मिल सके और उसकी केयर की जा सके।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने पोस्ट कोविड केयर सेंटर पर भी जोर दिया है। अफसरों से कहा है कि पोस्ट कोविड केयर सेंटर भी शहर में बनाए जाएं। जिससे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने वाले इस सेंटर पर रहकर पूरी तरह स्वस्थ्य हो सकें।
चिकित्सक एवं पैरामेडीकल स्टाफ की भर्ती की जाए:शेजवलकर
क्षेत्रीय सांसद  विवेक नारायण शेजवलकर ने ग्वालियर में स्वास्थ्य सुविधाओं की बढ़ोत्तरी के साथ-साथ चिकित्सकों और पैरामेडीकल स्टाफ की भर्ती की बात कही। उन्होंने कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में चिकित्सक एवं पैरामेडीकल स्टाफ की कमी के कारण दिक्कतें महसूस की जा रही हैं। इसके साथ ही एक हजार बिस्तर के अस्पताल का निर्माण भी ग्वालियर में किया जा रहा है। इसमें भी उपकरण और उपचार की आवश्यकता पड़ेगी। कॉन्टेक्ट बेस पर कम से कम एक अथवा दो वर्ष के लिये चिकित्सक और पैरामेडीकल स्टाफ की भर्ती की अनुमति प्रदेश सरकार से अपेक्षित है।
संभागीय कमिश्नर एवं कलेक्टर ने दी जानकारी
संभागीय समीक्षा बैठक में संभाग आयुक्त  आशीष सक्सेना ने ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में कोविड संक्रमण और उपचार के लिये किए जा रहे प्रबंधनों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही कलेक्टर ग्वालियर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने ग्वालियर में किए गए प्रबंधनों के संबंध में भी प्रजेण्टेशन के माध्यम से विस्तार से जानकारी दी।
किल कोरोना अभियान को प्रभावी बनाएं
मुख्यमंत्री ने ग्वालियर में कोरोना संक्रमण को जड़ से खत्म करने के लिए किल कोरोना अभियान को प्रभावी बनाने के लिए जन प्रतिनिधियों को अपने-अपने क्षेत्र में लगातार भ्रमण कर लोगों को बात करने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का कहना है कि विधायक, सांसद व मंत्री जब गांव-गांव व मोहल्लों में लोगों के बीच जाकर किल कोरोना अभियान को प्रभावी बनाने सहयोग मांगेगे तो हालात अच्छे ही होंगे।
कोई भाई भूखा न सोए
बैठक में कलेक्टर व अन्य अफसरों को मुख्यमंत्री ने साफ कह दिया है कि राशन वितरण में किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। क्योंकि मेरे प्रदेश में कोई भी गरीब भाई भूखा नहीं सोना चाहिए।
विधायक प्रवीण पाठक को बैठक में जाने से रोका
मुख्यमंत्री की बैठक में शामिल होने के लिए ग्वालियर दक्षिण से कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक भी पहुंचे थे, लेकिन उनको बाहर ही रोक दिया गया। उनको बताया गया कि उनके परिवार में हाल ही में एक सदस्य कोविड पॉजिटिव निकला है, इसलिए उन्हें बैठक में नहीं जाने दिया जा सकता।
मीडिया से बनाकर रखी दूरी
पत्रकारों को हटाया, सीएम से दूर रखने की प्लानिंग
ग्वालियर।सीएम ने अपने साढ़े तीन घंटे के ग्वालियर अल्प प्रवास पर कोरोना की आड़ में मीडिया से दूरी बनाकर रखी। उन्हें पता था कि बीते एक महीने में ऑक्सीजन की कमी, लापरवाही से जिले में हुई मौतों पर सवाल होगा और वह इस बारे में कुछ जवाब नहीं दे पाएंगे। साथ ही हाल ही में रेमडेसिविर इंजेक्शन के बांटने को लेकर भाजपा के एक खेमा ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह से खासा नाराज है।
प्रदर्शन भी कर चुके थे। इस पर भी सवाल होगा। इसलिए उन्होंने ऐसा कार्यक्रम सेट करवाया जिसमें कोरोना का हवाला देकर मीडिया से दूरी बना ली।रविवार दोपहर मुख्यमंत्री के कलेक्टोरेट पहुंचने से पहले ही वहां पेट्रोल पंप पर एकत्रित पत्रकारों को पुलिस ने वहां से हटा दिया है। पत्रकार तीन दिन पहले दतिया में दो पत्रकारों से मारपीट के विरोध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर मामले से अवगत कराना चाहते थे, लेकिन मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद किसी को भी उनसे नहीं मिलने दिया जा रहा।
विजिट से पहले सीएम का ट्वीट चर्चा में
-मेरे ग्वालियर आगमन पर कलेक्टर- कमिश्नर, एसपी  और नेता मुझे लेने एयरपोर्ट पर न आएं, यह मेरा निर्देश है
ग्वालियर।रविवार दोपहर 12.30 बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को ग्वालियर आये । यहां वह कोरोना के हालात और नियंत्रण की समीक्षा की । पर इससे पहले रविवार सुबह सीएम ने एक ट्वीट कर अफसरों की मुश्किल बढ़ा दी । सीएम ने कहा है कि कोई भी अफसर उनको लेने के लिए एयरपोर्ट न आए कोई तामझाम न करें। यह उनका निर्देश है।
साथ ही जनप्रतिनिधि भी एयरपोर्ट न आएं। निर्धारित कार्यक्रम के तहत बात होगी। एक बार फिर उन्होंने अफसरों को कहा कि वह प्रोटोकाल में न उलझें। इस संक्रमण को रोकना हम सबके लिए जरूरी है।
उन्होंने सुबह-सुबह ट्वीट कर ग्वालियर के अफसरों और नेताओं को निर्देश दिए हैं कि वह कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए मुझे एयरपोर्ट पर लेने और छोड़ने न आएं। इसमें बहुत समय बर्बाद होगा। साथ ही निर्देशित किया है कि काफिले में सिर्फ सिलेक्टेट वाहन हो और अन्य किसी वाहन को न भेजें। सभी जनप्रतिनिधियों और साथी कार्यकर्ताओं से आग्रह किया है कि हम गाइडलाइन का पालन कर परिस्थितियों के अनुकूल होने पर मिलेंगे।
बैठक में यह भी रहे उपस्थित
कोविड-19 की संभागीय समीक्षा बैठक में ग्वालियर कलेक्ट्रेट सभाकक्ष एवं एनआईसी कक्ष में क्राइसेस मैनेजमेंट समिति के सदस्य, जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा यादव, पूर्व मंत्री एवं विधायक  लाखन सिंह यादव, विधायक डबरा  सुरेश राजे, विधायक ग्वालियर पूर्व  सतीश सिकरवार, पूर्व मंत्री  अनूप मिश्रा, पूर्व मंत्री  इमरती देवी, जिला अध्यक्ष भाजपा  कमल माखीजानी, ग्रामीण अध्यक्ष  कौशल शर्मा, भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष  देवेश शर्मा, पूर्व ग्रामीण अध्यक्षश्री वीरेन्द्र जैन, कांग्रेस के जिला अध्यक्ष  देवेन्द्र शर्मा, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल,  मदन कुशवाह,  रामबरन सिंह,  रमेश अग्रवाल, चेम्बर ऑफ कॉमर्स के मानसेवी सचिव  प्रवीण अग्रवाल, बहुजन समाज पार्टी के अध्यक्ष  रामवीर सिंह कुशवाह,  मोहन सिंह राठौर सहित संभागीय आयुक्त  आशीष सक्सेना, आईजी  अविनाश शर्मा, डीआईजी  सचिन अतुलकर, कलेक्टर  कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY