डकैत मारने के 14 साल बाद प्रमोशन

0
4

-इनामी डकैत दयाराम गडरिया को मारने वाली टीम में शामिल एक पुलिस कर्मी न्याय मिला
ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
पांच लाख रुपए के इनामी डकैत दयाराम गडरिया को मारने वाली टीम में शामिल एक पुलिस कर्मी को पूरे 14 साल बाद न्याय मिला है। वो भी हाईकोर्ट के आदेश पर। यानि अब हाईकोर्ट के आदेश के बाद उसे प्रमोशन होगा। लेकिन इस प्रमोशन के लिए पुलिस कर्मी को लंबी कानूनी लड़ाई लडऩी पड़ी।
14 साल पहले पुलिस की एक टीम ने जब दयाराम का सफाया किया था तो टीम में शामिल लोगों को तो बारी-बारी से पहले प्रमोशन मिल गया पर तत्कालीन पुलिस कप्तान संजीव शमी के गनर रहे रामलखन शर्मा प्रमोशन से चूक गए। रामलखन शर्मा को पुलिस ने प्रमोशन नहीं दिया। जबकि रामलखन शर्मा इस मुठभेड में शामिल थे और हैरत की बात तो यह थी कि पुलिस कप्तान के ड्रायवर तक को प्रमोशन मिल गया था पर गोली चलाने वाला गनर प्रमोशन न पा सका। प्रमोशन न होने पर रामलखन शर्मा ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट के आदेश पर रामलखन को बारी से पहले दो प्रमोशन मिल रहे हैं। पहले प्रमोशन में दूसरी वाहनी के कमांडेंट यादव ने रामलखन शर्मा को एएसआई से एसआई के पद पर प्रमोशन दिया है। उल्लेखनीय है कि दयाराम व रामबाबू गडरिया का गिरोह शिवपुरी व ग्वालियर क्षेत्र में सक्रिय था। इस गिरोह की इतनी दहशत थी कि तात्कालीन समय में लोग शिवपुरी व ग्वालियर क्षेत्र में जाने से भी डरते थे। क्योंकि गिरोह अपहरण करन के बाद मोटी फिरौती वसूलता थाा

LEAVE A REPLY