मध्य प्रदेश में शराबबंदी करवाने वाले संतों का जगह-जगह हुआ भव्य स्वागत

0
1

मुरैना। मुरैना जिले में छैरा, मानपुर गांव सहित अन्य गांव में जनवरी माह में जहरीली शराब पीने से करीब 28 लोगों की मौत होने के बाद संत हरि महाराज ने मध्य प्रदेश में शराबबंदी करवाने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए उन्होंने 22 फरवरी से ग्वालियर की शीतला माता मंदिर से एक पदयात्रा शुरू की है ।यह यात्रा संत हरि गिरी महाराज के शिष्य द्वारा निकाली जा रही है और यह पदयात्रा आज शनिधाम से शरू होकर मुरैना शहर में पहुंची।

यह पदयात्रा शनिधाम से शरू होकर नेशनल हाईवे से बैरियर चौराहे, सदर बाजार, हनुमान चौराहा, नैनागढ़ रोड से नेशनल हाईवे होती हुई चंबल विंडवा आश्रम के लिए रवाना हो गयी। यात्रा में चल रहे संत हरि गिरी महाराज के शिष्य लाल गिरी, जनवेद गिरी, महादेव गिरी और रविंद्र गिरी का का जगह-जगह फूल माला पहनाकर एवं पुष्प वर्षा कर भव्य स्वागत किया गया। वही हरि गिरि महाराज के शिष्यों का कहना है हमें अपने आने वाली पीढ़ी को शराब से बचाना होगा। इसलिए सभी को इस आंदोलन में बढ़-चढ़कर शराब बंदी के खिलाफ आवाज उठानी होगी। इसके बाद लोगों को इस अभियान में जुड़ कर शराब न पीने की शपथ भी लेनी होगी। इसके साथ ही संत हरि गिरी महाराज के शिष्यों ने 26 फरवरी यानी शुक्रवार को चंबल विंडवा आश्रम पर होने वाली महापंचायत में पहुंचने के लिए ग्रामीणों को आमंत्रित भी किया है। जहां होने वाली पंचायत में संत हरी गिरी महाराज द्वारा शराबबंदी को लेकर अहम फैसले लिए जाएंगे। मीडिया से चर्चा करते हुए संत जनवेद गिरी ने कहा कि अपना मध्यप्रदेश शराब मुक्त हो और इसके लिए सरकार को कदम उठाने चाहिए। सरकार ने इस पर कोई जल्दी कदम नहीं उठाया तो आगे भोपाल तक पदयात्रा निकाली जाएगी और सभी संत शराबबंदी को लेकर एक बहुत बड़ा आंदोलन करेंगे। यात्रा के दौरान एक सुर में संत गिरी महाराज के शिष्यों की बात का समर्थन करते हुए लोगों ने शराब न पीने की भी शपथ ली ।पदयात्रा में संतों का स्वागत करने वालों में वीरेंद्र हर्षाना रांसू,केपी कंषाना, योगेंद्र मावई,िदनेश डंडोतिया, शिवसिंह गुर्जर,राजेन्द्र सोलंकी,सौरभ सोलंकी ने भी भव्य स्वागत किया।

LEAVE A REPLY