हम सब जानते है कि समाज के जीवन में बैंक का बड़ा योगदान :तोमर

0
101

व्यवसायिक बैंक के नवीन भवन का केन्द्रीय मंत्री ने किया शुभारंभ
मुरैना ।अजयभारत न्यूज
निश्चित रूप से व्यवसायिक बैंक व व्यापारियों के लिये आज बहुत खुशी का दिन है कि संस्था या व्यापारी की मंशा के अनुरूप इस बैंक का नवीन भवन में शुभारंभ किया जा रहा है। व्यापारियों व संस्था की मंशा है कि संस्था साफ, सुथरा, सर्व सुविधायुक्त होनी चाहिये। यह सभी सुविधायें औद्यौगिक बैंक में यहां मिलेंगी। यह हम सब जानते है कि समाज के जीवन में बैंको का बड़ा योगदान होता है। यह बात केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने सोमवार को व्यवसायिक बैंक के नवीन भवन का जीवाजीगंज में शुभारंभ करते समय कही।
केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि व्यापार और अर्थव्यवस्था को बल देने के लिये बैंक बहुत जरूरी है। जितने बड़े घराने है, उन्हें इस मुकाम पर पहुंचाने में बैंको का विशेष योगदान रहा है। लोगों के मन में यह धारणा रहती है कि बैंक आसपास में हो तो लेनदेन भी आसानी से होते रहते है। उन्होंने कहा कि विशेषकर सहकारी बैंक होती है तो व्यापारियों के लिये और फायदेमंद होती है। बैंकों में पैसा जमा हो, बैंको में से पैसा लोगों को हितलाभ के लिये ऋण बतौर मिले, यही लोगों की मंशा है। बैंक बढ़े, निरंतर प्रगति करे, यह तभी संभव होगा कि हमारा व्यापार, उद्योग ठीक से चल पायेगा। बैंको में पैसा बढ़ेगा तो ज्यादा लोगों के काम आयेगा। हम सब यहां इकट्ठे हुये है, हम सबकी यह जिम्मेदारी है कि बैंक से निरंतर लेनदेन करेंगे तो बैंक भी दिनो दिन प्रगति करें तो गरीब जरूरतमंद भाईयों को ऋण समय पर दे सकेंगी।
केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि एक समय वो था कि भारत में 50 प्रतिशत लोगों के खाते बैंको में नहीं खुले थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक दिन बैंकर्स की बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी लोगों के खाते बैंको में होने चाहिये, तब बैंकर्स ने कहा कि लोगों पर पैसा नहीं, खाते कैसे खुले। तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि शून्य बैलेंस पर जनधन योजना के तहत खाते लोंगो के खोले जायें तो लोगों का बैंको से जुड़ाव बढ़ेगा। तब पूरे देश में 42 करोड़ लोगों के जनधन खाते खोले, जिनमें 1 लाख 86 हजार करोड़ रूपये की राशि आज उनके खातों में बैंको में दिख रही है।
लोग अधिक से अधिक जुड़े यही मेरा प्रयास रहेगा
कार्यक्रम को संबोधित करते हुये व्यवसायिक एवं औद्यौगिक सहकारी बैंक की अध्यक्षा श्रीमती गीता अनिल गोयल ने कहा कि व्यापारियों और स्टाफ के अनुरोध पर भारतीय रिर्जव बैंक की सहमति से व्यवसायिक एवं औद्यौगिक बैंक को जीवाजीगंज स्थित भवन में लाने का निर्णय लिया गया। व्यापारियों एवं स्टाफ की मंशा होती है कि संस्था अच्छे और साफ, सुथरे स्थान पर संचालित हो। जहां व्यापारियों के अलावा स्टाफ को भी सहुलियत मिले। जब बैंक अच्छे स्थान पर खुलेगा तो व्यापारियों का अधिक लगाव होगा और बैंक में आसानी से लोग जुड़कर अपना लेनदेन कर सकेंगे। श्रीमती गोयल ने कहा कि मैं प्रयास करूंगी कि जिले में अन्य स्थानों पर भी व्यवसायिक एवं औद्यौगिक बैंक की शाखायें खुलें, लोग अधिक से अधिक जुड़े यही मेरा प्रयास रहेगा।
ये रहे मंचासीन
इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक तथा वित्त विकास निगम के अध्यक्ष रघुराज सिंह कंषाना, भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. योगेशपाल गुप्ता, व्यवसायिक एवं औद्यौगिक सहकारी बैंक की अध्यक्षा श्रीमती गीता अनिल गोयल, उपाध्यक्ष हेमन्त मोदी, रामस्वरूप गर्ग, संचालक मुन्ना पटेल, गजेन्द्र सिंह परमार, रघुनंदन सिंह कुशवाह, महावीर प्रसाद कुशवाह, यशवंत वर्मा, सुरेन्द्र सिंह कुशवाह, सीए प्रकाश अग्रवाल, व्यवसायिक बैंक के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अर्जुन सिंह परिहार मौजूद थे।
ये रहे मौजूद
कार्यक्रम में पूर्व विधायक परशुराम मुदगल, हमीर सिंह पटेल, केदार सिंह यादव, बल्लभ डंडोतिया, राधेश्याम गुप्ता, विपिन गोयल, पार्षद परिवेश खांन, योगेन्द्र मावई, बदन सिंह यादव, एसडीएम एलके पाण्डेय, नगर निगम कमिश्नर संजीव कुमार जैन सहित अन्य अधिकारी, गणमान्य नागरिक, जनप्रतिनिधि, पार्षद उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन राकेश शिवहरे ने किया।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY