मोहल्ले की बदली तस्वीर देखकर मेहमान अचरज में पड़ जाते हैं

0
25

– हितेन्द्र सिंह भदौरिया
ग्वालियर : घुटनों तक कीचड़, शाम ढ़लते ही मच्छरों का साम्राज्य और धुप अंधेरा। इतनी विपरीत परिस्थितियों में शौच के लिये घर से बाहर जाने वाली महिलाओं व बुजुर्गों की तकलीफ का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। कुछ सालों पूर्व बहुत कुछ ऐसा ही दृश्य उनाव की अनुसूचति जाति बहुल बस्ती होलीपुरा का हुआ करता था। मगर अब नालियों सहित बनी चमचमाती सीमेंट कंक्रीट की सड़केंए घर.घर बने शौचालय, करीने से बने हैण्डपम्प और प्रधानमंत्री आवास योजना से बनवाए गए पक्के मकान होलीपुरा में गढ़ी गई विकास की कहानी खुद बयां कर रहे हैं।
ग्वालियर संभाग के दतिया जिले के ग्राम उनाव की इस बस्ती के निवासी महेश कहते हैं कि पहले पूरी गली में गंदगी पसरी रहती थी। गर्मी के मौसम में जब तेज हवा चलती तो बदबू के मारे बुरा हाल रहता। दिन में बदबू और रात में मच्छर सोने नहीं देते। सबसे बुरा हाल तो तब होता जब शौच के लिये बाहर जाना पड़ता। एक तरह से हमारे मोहल्ले के निवासी नरक में जी रहे थे। वे बताते हैं कि लगभग दो वर्ष पूर्व एक दिन ग्राम पंचायत के सरपंच और सरकारी मुलाजिम हमारे मोहल्ले में आए। उन्होंने मोहल्लेवासियों से कहा कि सरकार ने आपके मोहल्ले के विकास के लिये धनराशि मुहैया कराई है। यदि आप सब सहयोग करें तो यहाँ विकास कार्य शुरू किए जाएँ। यहाँ के निवासी अहिवरन, मंगल व रामसेवक सहित अन्य लोग कहने लगे कि हम सब क्या सहयोग कर सकते हैं।
उनाव ग्राम पंचायत के सरपंच लक्ष्मण सिंह यादव ने इन सबसे कहा कि सरकार आपके मोहल्ले में कच्चे व खपरैल की झोंपड़ियों में रह रहे लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्के घर बनाने के लिये आर्थिक मदद देगी। आप सबको अपने मकान शौचालय सहित समय.सीमा में बनाने होंगे। साथ ही मोहल्ले की गलियों में सीमेंट.कंक्रीट सड़क बनाने के लिये बढ़े हुए चबूतरे कम करने होंगे। यह सुनकर होलीपुरा मोहल्लेवासी खुशी से झूम उठे और वे सहर्ष यह सहयोग देने के लिये तैयार हो गए।
जल्द ही होलीपुरा मोहल्ले की सभी गलियों में पंच-परमेश्वर योजना सहित सरकार की अन्य योजनाओं से नालियों सहित पक्की सड़कें बन गईं। साथ ही स्वच्छ भारत अभियान के तहत घर दृ घर शौचालय भी बनवाए गए। इतना ही नहीं अहिवरनए बूँदीबाई, महेश सहित कच्चे घरों में रह रहे अन्य लोगों के पक्के मकान प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनवा दिए गए। इन मकानों में शौचालय भी सरकार ने बनवाए। इतना ही नहीं उज्ज्वला योजना के तहत बीपीएल परिवारों की महिलाओं को निरूशुल्क रसोई गैस कनेक्शन भी दिए गए।
सरकार ने विकास कार्य कराए तो मोहल्लेवासी भी इसमें सहभागी बने। यहाँ के सभी लोग मिलकर सुबह – शाम झाडू लगाते हैं और नालियों की सफाई भी नियमित रूप से करते हैं। इस मोहल्ले में तीन साल बाद किसी रिश्तेदार का आना होता है तो वह यहाँ की चमचमाती सड़कें व साफ.सफाई देखकर अचरज में पड़ जाता है कि कहीं हम दूसरे मोहल्ले में तो नहीं आ गए। विकास की ऐसी ही इबारत दतिया जिले के अन्य गाँवों के अनुसूचित जाति बहुल बस्तियों में लिखी गई है।

विकास की नजीर बना है दतिया जिला
प्रदेश के जनसंपर्क एवं जलसंसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र के नेतृत्व में दतिया जिले में विकास के नए आयाम स्थापित हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना व प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत सर्वाधिक किसानों को लाभ दिलाने में भी दतिया जिला अव्वल रहा है। दतिया जिला अब खुले में शौचमुक्त जिला बन गया है। दतिया जिला मुख्यालय पर राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरने वाले लोगों को मेडीकल कॉलेज व नवीन कलेक्ट्रेट भवन दूर से ही दतिया जिले की विकास की कहानी बताते प्रतीत होते हैं। दतिया निवासियों की पेयजल समस्या का स्थायी निदान भी डॉ. नरोत्तम मिश्र ने करा दिया है। ये काम तो बानगीभर हैंए यहाँ विकास कार्यों की लम्बी श्रृंखला है।

दतिया जिले में भी पवित्र चार धाम
जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र की पहल पर दतिया जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रयास भी प्रमुखता से हुए हैं। कलेक्टर दतिया मदन कुमार ने धार्मिक व पर्यटन महत्व के स्थलों का एक चार धाम सर्किट तैयार किया है। श्रृद्धालु एक दिन में अपने वाहन से दतिया जिले के चारों धामों की यात्रा कर सकते हैं। इन धार्मिक स्थानों में माँ पीताम्बरा माई,बालाजी सूर्य मंदिर उनावए रतनगढ़ माता एवं सेंवढ़ा स्थित सनकुआ धाम शामिल हैं। मदन कुमार बताते हैं कि दतिया जिले की चार धाम यात्रा कर चुके बहुत से श्रृद्धालुओं का कहना है‍ कि इस पवित्र यात्रा से उन्हें आत्मिक शांति तो मिली ही हैए साथ ही हमारी मनोकामनायें भी पूरी हुई हैं।

देश का इकलौता शिलालेख जिस पर लिखा है जम्बू द्वीप
दतिया जिले के ग्राम गुर्जरा में सम्राट अशोक के समय का प्रसिद्ध शिलालेख भी अद्वितीय है। इस शिलालेख से इस बात की पुष्टि होती है‍ कि भारतवर्ष प्राचीनकाल में जम्बू द्वीप था। भारत का यह इकलौता शिलालेख हैए जिस पर ब्राम्ही लिपि में जम्बू द्वीप शब्द प्रदर्शित है। दतिया जिला प्रशासन ने इस शिलालेख पर प्रदर्शित लेख का देवनागरी भाषा में अनुवाद कराया है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना का मॉडल जिला है दतिया
जिला पंचायत दतिया के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संदीप माकिन ने बताया कि अकेले उनाव गाँव में ही प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत 48 आवास मंजूर हुए थे, उनमें से 41 पूर्ण हो चुके हैं। शेष 7 आवास भी पूर्णता की ओर हैं। साथ ही यहाँ के लिये 29 नए आवास हाल ही में मंजूर किए गए हैं। श्री माकिन कहते हैं कि प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना को सफलतापूर्वक अमलीजामा पहनाने में दतिया जिला प्रदेश ही नहीं देशभर के लिये मॉडल डिस्ट्रिक बन गया है। भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा जारी की गई प्रधानमंत्री ग्रामीण विकास योजना की रैंकिंग में दतिया जिला अव्वल आया है। दतिया जिले के ग्रामीण अंचल में निर्धारित 4 हजार 331 आवास का लक्ष्य थाए जिसमें से 3 हजार 693 पक्के आवास बनकर तैयार हो गए हैं। जिला पंचायत सीईओ ने बताया कि दतिया जिले के सरकारी स्कूलों में बालक एवं बालिकाओं के शौचालय परिसरों के लिये अलग.अलग रंग निर्धारित हैं। जिलेभर के स्कूलों में सुनियोजित ढ़ंग से बालिकाओं के लिये गुलाबी रंग और बालकों के लिये नीले रंग के शौचालय बनवाए गए हैं।

LEAVE A REPLY