…तो क्या मोबाइल एप दिलाएगा जल संकट से निजात

0
6

ग्वालियर : ग्वालियर में इस बार जलसंकट का साया मंडराने लगा है। यही वजह है कि नगर निगम ने जल संरक्षण के लिए वॉटर एप लॉन्च किया है। एप के जरिए निगम शहरवासियों की पेजयल समस्या और पानी की बरबादी वाली शिकायतें निपटाएगी। वहीं विपक्ष ने निगम को पानी को लेकर निशाना साधते हुए कहा कि शहर में लीकेज की समस्या हल नहीं हुई।
ग्वालियर शहर इस बार जल संकट के मुहाने पर खड़ा है। तिघरा बांध भर नहीं पाया तो कैकेटो डेम से पानी लिफ्ट किया गया। शहर में पेयजल को लेकर मारा-मारी हो रही है। गर्मी बढ़ेगी वैसे-वैसे जल संकट गहराएगा।
नगर निगम ने जलसंकट के हालातों को देखते हुए वॉटर एप लांच किया है। इस एप पर शहरवासी अपनी पानी की समस्या को लेकर, लीकेज होने, हैंडपंप टूटे, नल नहीं आने की शिकायत भेज पाएंगे। वहीं कहीं पानी की बरबादी या अन्य कमियों हैं तो उनका फोटो शिकायत के साथ भेज पाएंगे।

नगर निगम डिजीटल होने की तरफ बढ़ रही है
महापौर विवेक शेजलवकर का कहना है कि ग्वालियर नगर निगम डिजीटल होने की तरफ बढ़ रही है। लोगों को अपनी समस्या की शिकायत के लिए घर बैठे सुविधा मिल पाए, इसके लिए यह प्रयोग शुरू किया गया है।

कोरी बातें हैं
वहीं विपक्ष ने जल संकट को लेकर नगर निगम के सत्तापक्ष औऱ अफसरों की नीयत पर सवाल खड़े किए हैं। नेता प्रतिपक्ष कृष्णराव दीक्षित का कहना है कि नगर निगम ग्वालियर विकसित देश की तर्ज पर चलना चाहता है, लेकिन शहर की आधी से ज्यादा आबादी स्मार्ट फोन का उपयोग नहीं करती है, ऐसे में एप से जलसंरक्षण और जल समस्या दूर होना कोरी बातें हैं।
नेता प्रतिपक्ष के मुताबिक, शहर में दो साल से लीकेज की समस्या बनी हुई है, जिसमें एक से डेढ़ एमसीएफटी पानी बेकार बह जाता है। इसे दूर करना चाहिए। आम लोगों के साथ ही सब इंजीनियर, पार्षदों ने शिकायतें की है उनका हल नही हुआ है।
शहर जलसंकट के मुहाने पर खड़ा है, आंकड़ों पर गौर करें तो शहवासियों ने पानी को लेकर जन सुनवाई, लोकमंत्रणा और निगम के दफ्तरों में सैंकड़ों शिकायतें की है, इनका हल नही हो पाया है ऐसे में वॉटर एप से जलसंकट और जलसमस्या हल होगी अभी कहना मुश्किल है।

जल संरक्षण-आपका साथ संवाद आज
ग्वालियर:ग्वालियर में अल्प वर्षा के कारण पानी की कमी को देखते हुए पानी संरक्षण के प्रति लोगों में जन जागृति लाने के उद्देश्य से जल संरक्षण-आपका साथ संवाद कार्यक्रम का आयोजन 14 मार्च को जीवाजी विश्वविद्यालय के गालव सभागार में किया जा रहा है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महापौर विवेक नारायण शेजवलकर करेंगे। कार्यक्रम में कलेक्टर राहुल जैन , कुलपति जीवाजी विश्वविद्यालय श्रीमती संगीता शुक्ला, नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। संवाद कार्यक्रम में विशेष वक्ता के रूप में नई दिल्ली से पधार रहे अतुल लड्डा के साथ ही नगर निगम महापौर परिषद के सदस्य, मीडिया प्रतिनिधि ,पार्षदगण एवं जीवाजी विश्वविद्यालय के प्रोफेसरगण शामिल रहेंगे।
नगर निगम ग्वालियर और जिला प्रशासन के संयुक्त प्रयासों से ग्वालियर में जल संरक्षण के प्रति जन जागृति लाने के उद्देश्य से आयोजित इस कार्यशाला में नगर निगम के समस्त पार्षदगण, जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और नगर निगम के अधिकारीगण,नगर में जन जागृति के लिये नियुक्त किए गए ब्राण्ड एम्बेसडर, जल दूत, मैरिज गार्डनों के संचालक, होटल एवं रेस्टोरेंट के संचालकगण, कॉलेज संचालक, सामाजिक,धार्मिक संस्थाओं के पदाधिकारी, जीवाजी विश्वविद्यालय के एनएसएस के छात्र.छात्राओं के साथ ही ग्वालियर के मीडिया से जुड़े हुए सभी प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है।
नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा ने बताया कि इस कार्यशाला में जल संरक्षण के उपायों पर विस्तार से चर्चा की जायेगी। इसके साथ ही पानी के अपव्यय को रोकने हेतु जन जागृति के लिये किए जाने वाले उपायों पर विचार दृ विमर्श किया जायेगा। वर्षा के पानी को अधिक से अधिक रोकने के लिये किए जाने वाले कार्यों पर भी चर्चा की जायेगी। इसके साथ ही विशेष वक्ताओं द्वारा सम्पूर्ण देश एवं विदेशों में जल संरक्षण की दिशा में किए जा रहे कार्यों पर जानकारी दी जायेगी।

LEAVE A REPLY