UP उपचुनाव: फूलपुर में 37% और गोरखपुर में 43% मतदान

0
8

नई दिल्ली:उत्तर प्रदेश में फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया है. दोनों सीटों पर बीजेपी और सपा के बीच कांटे का मुकाबला है. फूलपुर में बीजेपी के कौशलेंद्र पटेल और बसपा समर्थित सपा प्रत्याशी नागेंद्र पटेल के बीच मुकाबला माना जा रहा है. जबकि कांग्रेस के मनीष मिश्रा और बाहुबली अतीक अहमद भी निर्दलीय मैदान में हैं. वहीं, गोरखपुर में बीजेपी के उपेंद्र शुक्ला और बसपा समर्थित सपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद और कांग्रेस की सुरहिता करीम मैदान में हैं.

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने गोरखपुर और डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने फूलपुर सीट से पिछले साल इस्तीफा दे दिया था. इसके चलते दोनों सीटों पर उपचुनाव हो रहा है. दोनों ने अपनी सीटों पर जमकर प्रचार किया है. ऐसे में दोनों बीजेपी के दिग्गज नेताओं की की प्रतिष्ठा दांव पर है.

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर आज उप चुनाव हो रहा है. इसके अलावा बिहार में अररिया लोकसभा के साथ ही भभुआ और जहानाबाद विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव पर मतदान आज होगा. मतदान के नतीजों की घोषणा 14 मार्च को होगी. मतदान सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक होगा.
सबकी निगाहें गोरखपुर सीट के उप चुनाव पर हैं. यहां से सांसद योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद इस्तीफा देने से सीट खाली हुई थी. वहीं, फूलपुर सीट उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे की वजह से खाली हुई है.
आज योगी आदित्यनाथ ने भी अपने गृहनगर आकर वोट डाला. वोट डालने के बाद उन्होंने कहा, ”सपा बसपा का गठबंधन बेमेल है. यूपी में आम जनता का वोट सपा बसपा की बपौती नहीं है और 2019 के लोकसभा चुनाव में अगर यह गठबंधन साथ भी रहता है तो कोई असर नहीं पड़ने वाला.”
गोरखपुर में कुल 10 और फूलपुर में 22 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. इन दोनों ही सीटों पर बीजेपी, एसपी और कांग्रेस के बीच मुकाबला होने की संभावना है. बीएसपी ने उपचुनाव में प्रत्याशी नहीं खड़े किये हैं. बीजेपी ने गोरखपुर से उपेन्द्र दत्त शुक्ला को और फूलपुर सीट से कौशलेन्द्र सिंह पटेल को उम्मीदवार बनाया है.एसपी ने गोरखपुर से प्रवीण निषाद और फूलपुर से नागेन्द्र सिंह पटेल को मैदान में उतारा है. वहीं, कांग्रेस ने गोरखपुर से सुरहिता करीम और फूलपुर से मनीष मिश्र को टिकट दिया है.गोरखपुर सीट बीजेपी के लिये, खासकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिये प्रतिष्ठा का सवाल है. योगी यहां से पांच बार सांसद चुने जा चुके हैं. इससे पहले उनके गुरु महन्त अवैद्यनाथ तीन बार संसद में इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

LEAVE A REPLY