भागवत का विवादित बयान: सेना से पहले 3 दिन में RSS के लोग हो जाएंगे तैयार,RSS ने दी सफाई

0
11

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में आर्मी कैंप पर आतंकी हमले के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान आया है. बिहार के मुजफ्फरपुर में भागवत ने कहा कि उनका मिलिट्री संगठन नहीं है, लेकिन देश को जरूरत पड़ेगी तो उनके स्वंयसेवक सेना से पहले ही तीन दिन में तैयार हो जाएंगे.
RSS की सफाई
मोहन भागवत के बयान पर RSS की सफाई आई है. संघ ने बयान जारी कर कहा है, ”मोहन भागवत ने सेना से संघ की तुलना नहीं की है, बल्कि ये कहा कि आम लोगों को सैनिक बनाने में छह महीने लगते हैं. अगर सेना ट्रेनिंग दे तो तीन दिन में स्वयंसेवक सैनिक बन जाएगा.”
मोहन भागवत ने क्या कहा है?
मोहन भागवत ने बिहार के मुजफ्फरपुर में स्वयंसेवकों को अनुशासन का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि हम मिलिट्री नहीं है, लेकिन हमारा अनुशासन उनके जैसा ही है. इतना ही नहीं, मोहन भागवत ने अपने स्वयंसेवकों के सेना से पहले तैयार हो जाने का भी दावा किया. भागवत ने ये भी कहा कि देश को अगर हमारी जरूरत पड़े और हमारा संविधान और कानून इजाजत दे हम तुरंत तैयार हो जाएंगे.
स्वयंसेवकों ने चीनी सेना को घुसने नहीं दिया- भागवत
भागवत ने कहा, ”आरएसएस के स्वयं सेवक मातृभूमि की रक्षा के लिए हंसते-हंसते बलिदान देने को तैयार रहते हैं. देश की विपदा में स्वयंसेवक हर वक्त मौजूद रहते हैं.” उन्होंने भारत-चीन के युद्ध की चर्चा करते हुए कहा, ”जब चीन ने हमला किया था तो उस समय संघ के स्वयंसेवक सीमा पर मिलिट्री फोर्स के आने तक डटे रहे. स्वयं सेवकों ने तय किया कि अगर चीनी सेना आयी तो बिना प्रतिकार के उन्हें अंदर प्रवेश करने नहीं देंगे. स्वयंसेवकों को जब जो जिम्मेदारी मिलती है, उसे बखूबी निभाते हैं.”
भागवत और बीजेपी पर AAP ने साधा निशाना
केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने भागवत के इस बयान पर सवाल उठाए हैं. आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने ट्विटर पर कहा है, ‘’अगर ये बयान किसी दूसरी पार्टी के नेता ने दिया होता तो भाजपाई अब तक उसे पाकिस्तान भेज देते. मीडिया तो फांसी की सज़ा की मांग कर देता, लेकिन बात भागवत की है. “हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम, वो क़त्ल भी करते है तो चर्चा नही होता.”

LEAVE A REPLY