SAvIND 1st ODI: टीम इंडिया में प्लेइंग-11 कॉम्बिनेशन को लेकर सिरदर्द

0
3

डरबन :भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज 1-2 से गंवा दी थी, लेकिन आखिरी टेस्ट में अपने प्रदर्शन से दिखा दिया था कि विराट कोहली एंड कंपनी किसी भी परिस्थिति में जीत दर्ज कर सकती है। भारत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छह मैचों की सीरीज का पहला वनडे मैच कल यानी कि 1 फरवरी को खेलना है। वनडे फॉरमैट में कप्तान महेंद्र सिंह धौनी की वापसी से टीम को निश्चित तौर पर मजबूती मिलेगी।
यही नहीं वर्ल्ड कप 2019 के लिए अब केवल 14 महीने का समय बचा है और ऐसे में भारत इस सीरीज से क्रिकेट महाकुंभ के लिए अपनी तैयारियों की भी शुरुआत करेगा। भारत को अपनी बड़ी टेस्ट सीरीज से पहले काफी वनडे मैच खेलने हैं और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इसकी पॉजिटिव शुरुआत करना उसके लिए बेहद जरूरी है। भारत को दक्षिण अफ्रीका से छह वनडे और तीन टी20 मैच खेलने के बाद श्रीलंका में ट्राई सीरीज में हिस्सा लेना है।
इसके बाद आईपीएल होगा जबकि इसके बाद उसे इंग्लैंड और आयरलैंड में तीन वनडे और तीन टी20 मैच खेलने हैं। इंग्लैंड में अगस्त में वो पांच टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगा। इतने अधिक वनडे मैचों खासकर दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के प्रदर्शन के आधार पर टीम मैनेजमेंट को वर्ल्ड कप के लिए अपनी टीम सुनिश्चित करने का भी मौका मिलेगा। उसे टीम में जरूरी सुधार करने का मौका भी मिलेगा।
इन सबके बीच भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका में अपनी पहली द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीतने की कोशिश करेगी। भारत को इससे पहले यहां खेली गई चार द्विपक्षीय सीरीज में हार का सामना करना पड़ा। उसने दो बार यहां ट्राई सीरीज में भी हिस्सा लिया जिसमें तीसरी टीम जिम्बाब्वे और केन्या थी लेकिन तब भी दक्षिण अफ्रीका ही चैंपियन बना था। भारत का दक्षिण अफ्रीका में द्विपक्षीय सीरीज में रिकॉर्ड अच्छा नहीं है।

LEAVE A REPLY