कुछ तुम कहो कुछ हम कहें (प्यार की नोंक-झोंक)

0
6

पति-पत्नी में छोटी-छोटी बातों को लेकर अक्सर नोक-झोंक होती रहती है। स्त्री-पुरूष के झगडे कभी कम नहीं होंगे। पुरूष महिलाओं को कोसते हैं और महिलाएं पुरूषों को। स्त्री का मानना है पुरूष स्वार्थी होता है। शादी करते समय पुरूष सोचता है स्त्री बदलेगी, स्त्री सोचती है कि वह पुरूष को बदल देगी और अंत में दोनों निराश रहते हैं। क्या-क्या शिकायतें होती हैं एक-दूसरे से इन्हें जानते हैं इनसे ही।
स्त्री पक्ष
1 .महिलाओं को हमेशा शिकायत रहती है कि पुरूष देर से उठते हैं। जब ऑफिस जाने में थोडी देर रह जाती है और उठते ही बस अपने सामानों के बारे में पूछते रहते हैं कि मेरा पर्स कहां रखा है, रिस्ट वॉच कहां है आदि।
2.क्रिकेट के प्रति पुरूषों के प्रेम को लेकर भी महिलाएं ज्यादा परेशान रहती हैं।इनका टीवी और क्रिकेट पे्रम तलाक के कारण बन रहे हैं।
3.महिलाओं को अक्सर यह शिकायत रहती है कि उनके पति उनके घरवालों को महत्तव नहीं देते। साथ ही यह चाहते हैं कि उनकी पत्नी उनके माता-पिता का पूरा ध्यान रखे।
4.महिलाओं को यह भी शिकायत रहती है कि जब भी वे कोई सामान मंगाती है तो उनके पति अक्सर भूल जाते हैं।
5.पुरूषों का ऑफिस से लौटकर भी काम और मोबाइल में लगा रहना भी महिलाओं की एक शिकायत है।
6.महिलाएं जब पुरूषों को शापिंग के लिए कहती हैं तो उन्हें फिजूलखर्ची लगती है और खुद दोस्तो के साथ पार्टी करते रहते हैं।
7.महिलाएं अक्सर यह शिकायत करती है कि उनके पति शादी के बाद उनकी तारीफ करना कम कर देते हैं।
8.एक्जाम में बच्चों के नंबर कम आने पर पुरूष महिलाओं को ही कोसते हैं। खुद बच्चों की पढाई के प्रति कोई जिम्मेदारी नहीं लेते।
9.महिलाओं को यह भी शिकायत रहती है कि पुरूष अपनी चिजौं को यथास्थान नहीं रखते। वे अपनी चिजौं को यहां-वहां पटक देते हैं।
10.घर पर सुंदर पत्नी होने के बावजूद ये बाहर फलर्ट करने कभी बाज नहीं आते। कई बार तो पत्नियों के साथ होते हुए भी ये सामने वाली लडकी से फ्लर्ट करने से नहीं चूकते।
11.महत्तवपूर्ण तारीखें पुरूषों कों कभी याद नहीं रहतीं। पत्नियों का बर्थ डे और मैरिज एनिवर्सरी तो शायद ही इन्हें याद रहते हों।
12.पुरूषों के अहंकार से भी महिलाएं परेशान रहती हैं। महिलाओ को शिकायत रहती है कि पुरूषों को उन पर भरोसा नहीं होता। साथ ही पुरूष सोचते हैं कि इनके बिना महिलाएं आगे नहीं बढ सकती हैं।
13.पुरूष को महिलाओं की हर बात को काटने में मजा आता है। उस पर शिकायत यह कि तुम बोलती बहुत हो……।
14.पुरूषों के गुस्से से भी महिलाएं परेशान रहती हैं। महिलाओं का मानना है कि पुरूषों में धैर्य की कमी होती है।
15.महिलाओं को लगता है कि पुरूष बहुत स्वार्थी होते हैं।
पुरूषों की भी महिलाओं से कुछ शिकायतें रहती हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि पुरूषों को महिलाओं से क्या-क्या शिकायतें रहती हैं।
पुरूष पक्ष:
1.पुरूषों का मानना है कि महिलाएं कभी भी खुलकर नहीं बोलतीं। वे चाहती हैं कि पुरूष उनकी बातों को अपने आप ही समझ जाएं।
2.पुरूषों को यह भी शिकायत रहती है कि पत्नियां पैसों को लेकर उनसे अक्सर झगडती रहती है।
3.महिलाएं चाहती हैं कि पुरूष बेवजह भी उनकी तारीफ करते रहें। वजन चाहे दिन दुनी रात चौगुनी रफ्तार से बढ रहा हो बेबो को देखकर पत्नियों को यही लगता है कि वे भी जीरो साइज की हो सकती हैं।
4.महिलाएं पुरूषों को बहुत इंतजार कराती है। यह भी पुरूषौं को शिकायत रहती है। कोई इंतजार करके मरता रहे इनकी बला से।
5.महिलाओं के मूड का कोई ठिकाना नहीं होता। कब कौन सी बात इनको चुभ जाए ये तो ब्रहा ही बता सकते हैं।
6.महिलाएं करती वहीं है जो वे चाहती है लेकिन हर फैसले पर पुरूषों की मुहर चाहती हैं ये। फिर हर बात पर पुरूषों से पूछती क्यौं हैं।
7.पुरूषों को शिकायत रहती है कि महिलाएं उनको पर्सनल स्पेस नहीं देती। हर बात पर सवाल और रोक-टोक करती हैं।
8.पुरषों का मानना है किमहिलाएं शॉपिंग मीनिया से ग्रस्त हैं। महिलाओं का एक शॉप पर घंटे भर खडे होकर पांच रूपये कम कराने के लिए दुकानदार से झिकझिक करना और फिर बिना कुछ लिए वहां से चल देना पुरूषों को अच्छा नहीं लगता।
9.महिलाएं चाहे कैसा ही खाना बनाएं पर ये उम्मीद रखती हैं कि इनके हुनर की तारीफ करें।
10.महिलाओं का अपने पति पर शक करना और जासूसी करना पुरूषों को बिल्कुल भी पसंद नहीं है। उन्हें हमेशा यही लगता है कि पुरूष इन्हे धोखा दे रहे हैं। उनकी आंखें किसी सी.बी.आई.इंस्पेक्टर की तरह हमेशा पुरूषों को टटोलती रहती हैं।
11.यदि महिलाओं को कोई बात मनवानी हो तो आंसू इनके बडे अस्त्र हैं । अपनी बात मनवानी हो तो सबसे पहले आंसू निकलते हैं और फिर शुरू होता है नाराजगी का दौर।
12.पुरूषों का मानना है कि महिलाएं तार्किक ढंग से नहीं सोचती। भावनाओं में बहना और गलती हो जाए तो इसका ठीकरा भी पुरूषों के सिर फोंडना इनकी पुरानी आदत है।
13.महिलाओं को हमेशा शिकायत रहती है कि पुरूष सभ्य नहीं होते लेकिन कभी इन सभ्य çस्त्रयों को लडते देखा है।
14.अपनी तबियत को लेकर सिर दर्द को लेकर अक्सर पतियों को टोकती हैं लेकिन डॉक्टर को नहीं दिखाती।
15.इतनी ड्रेसेज होने के बावजूद महिलाओं को लगता है कि उनके पपस कपडें कम हैं।

LEAVE A REPLY