हड़ताल खत्म करें, काम पर लौटें जूनियर डॉक्टर

0
0

-मंत्री विश्वास सारंग का बयान, सरकार कर रही हाईकोर्ट के आदेश का पालन
भोपाल।अजयभारत न्यूज
जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल का सीधा असर अब मरीजों पर पड़ रहा है। एक ओर मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा तो दूसरी ओर सरकार अपने स्टैंड पर कायम है। जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर अड़े हुए हैं। ऐसे में इसका समाधान कैसे निकलेगा यह समझ से परे है।सरकार ने कह दिया है कि जूनियर डॉक्टर हाईकोर्ट के आदेश का पालन करें और सरकार भी उसका पालन कर रही है।
मध्य प्रदेश में जूनियर डॉक्टरऔर सरकार के बीच का विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है।चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने दो टूक शब्दों में फिर जूनियर डॉक्टरों को हाईकोर्ट के निर्देश का पालन करने की चेतावनी दी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने अपनी बात दोहराते हुए कहा है कि मध्य प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर जूनियर डॉक्टरों का नजरिया अमानवीय है। ऐसे में जूनियर डॉक्टरों को मानव सेवा को सर्वोपरि मानते हुए काम पर वापस आना चाहिए।सरकार बातचीत करने को तैयार हैं। आज भी उनके लिए दरवाजे खुले हैं। लेकिन वह हमसे मिलने आ ही नहीं रहे।
————————————
जूनियर डॉक्टर को ना मरीजों की चिंता, ना सेवा की
सरकार तो सिर्फ हाईकोर्ट के निर्देश का पालन कर रही है। जिसके अनुसार जूनियर डॉक्टरों को काम पर आ जाना चाहिए। विश्वास सारंग ने यह साफ तौर पर कहा कि जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर गए हैं तो ऐसे में वह मरीजों का अहित कर रहे हैं। क्योंकि जूनियर डॉक्टर को ना मरीजों की चिंता है और ना सेवा की।जूनियर डॉक्टरों को हाईकोर्ट के आदेश का पालन करना चाहिए और स्वास्थ्य सुविधाओं को सुचारु रुप से चलाना चाहिए।मंत्री से पूछा गया कि क्या इस समस्या का समाधान हो पाएगा या एक दूसरे पर ही आरोप-प्रत्यारोप लगाकर हड़ताल चलती रहेगी। इस पर सरकार के मंत्री का कहना था कि हम तो चाहते हैं कि यह हड़ताल जल्द से जल्द खत्म हो। लेकिन जूनियर डॉक्टर आखिर सरकार से बातचीत नहीं चाहते।

LEAVE A REPLY