एंटी माफिया अभियान …जिला प्रशासन की कार्रवाई, फौजी को घर वापिस दिलवाया, सूत्रधार बने एसडीएम प्रदीप तोमर

0
3

-सरकारी जमीन पर कब्जा करने वाले दबंगों पर पुलिस की कार्रवाई
ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
गणतंत्र दिवस से ठीक 3 दिन पूर्व सेना से सेवानिवृत्त सूबेदार को अपने सपनों का आशियाना वापिस मिल गया है और इसके सूत्रधार बने एसडीएम ग्वालियर प्रदीप तोमर, इस मकान पर पिछले डेढ़ वर्ष से शहर के कुछ दबंगों ने कब्जा कर ताला डाल दिया था। तभी से वह थाना से लेकर एसपी और कलेक्टर ऑफिस तक चक्कर लगाकर गुहार लगा चुका था, पर दंबों की पहुंच के चलते कोई फौजी की मदद नहीं कर रहा था। अंत में सेवा निवृत्त सूबेदार संजय ने सीएम हेल्प लाईन में शिकायत दर्ज कराई और चंद दिनों में सीएम ऑफिस से कलेक्टर को फोन आया और तत्काल कब्जा हटाकर मकान वापिस दिलाने के निर्देश दिये गये।

शनिवार की दोपहर जिला प्रशासन की टीम पुलिस बल लेकर पहुंची और मकान पर लगे ताले को तोड़कर फौजी को उसका मकान वापिस दिला दिया और साथ ही एसडीएम प्रदीप तोमर ने उनका माला पहनाकर और शॉल श्रीफल देकर सम्मान किया।
क्या है पूरा मामला
संजय सक्सैना सेना से रिटायर्ड सूबेदार हैं। 30 साल उन्होंने देश के लिए अपनी सेवा दी है। 30 अप्रैल 2018 को रिटायर्ड होने के बाद वह ग्वालियर में ही बसना चाहते थे। उनका परिवार व बच्चे आगरा में रह रहे थे। उन्होंने ग्वालियर में राधाकॉलोनी लूटपुरा के पास अपने भतीजे रवि सक्सैना से एक मकान दिलाने की बात कही। रवि ने अपना ही मकान जो 788 वर्गफीट का था खरीदने का प्रस्ताव दिया। करीब 16 लाख रुपए में 19 सितंबर 2018 को उन्होंने भतीजे से मकान खरीदकर रजिस्ट्री करा ली। अभी आगरा में बच्चों की पढ़ाई चल रही थी इसलिए मकान में कोई किराएदार रखने के लिए भतीजे को कहा। इस पर रवि ने खुद ही किराएदार बनने के लिए कहा। जब जुलाई 2019 में रिटायर्ड सूबेदार मकान पर कब्जा लेने पहुंचा तो वहां ताला लगा था। भतीजा रवि गायब था और उसका मोबाइल नंबर भी बंद आ रहा था। आसपास पूछा तो पता लगा कि इस मकान गोसपुरा के दबंग महेश भदौरियाए श्याम भदौरियाए नंदी तोमर निवासी चंदनपुराए शिवा राजावत निवासी कांचमील और सोनू बाल्मीकि निवासी राजा की मंडी का कब्जा है। इनमें से महेश और नंदी तोमर भाजपा से जुड़े बताए गए हैं।
अधिकारी काफी दिनों से टहला रहे थे
पिछले डेढ वर्षो से इस मामले में सेवानिवृत्त सूबेदार संजय सक्सैना थाना से लेकर सीएसपी कार्यालय, एसपी कार्यालय और कलेक्टर कार्यालय तक कई बार शिकायत कर चुके थे लेकिन कोई भी सुनने को तैयार नहीं था। अभी हाल ही में परेशान होकर फौजी ने मामले की शिकायत सीएम हेल्पलाईन पर की थी। सीएम हेल्पलाईन पर आई तो इस शिकायत को तत्काल गंभीरता से लिया। कलेक्टर को कार्यवाही कर मकान पर कब्जा दिलाने के लिये कहा गया। इसी सिलसिले में एसडीएम प्रदीप तोमर ने पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच कर संजय के मकान पर लगे ताले को तोड़ा और उनको कब्जा दिला दिया।
मैंने तो उम्मीद ही छोड़ दी थी कि मकान वापिस मिलेगा
मकान पर कब्जे के मामले में सेवानिवृत्त सूबेदार संजय सक्सैना ने बताया कि उनको तो विश्वास ही नहीं हो रहा है कि उनका घर वापिस मिलेगा। जिस तरह से डेढ वर्ष बीत गया उससे लगता था कि अब कभी उनका घर का सपना पूरा नहीं हो पायेगा। अब वह गणतंत्र दिवस के ठीक 3 दिन पूर्व घर उनको मिलने से राहत मिली हैं।
सरकारी जमीन पर कब्जा करने वाले दबंगों पर पुलिस की कार्रवाई
ग्वालियर। शासकीय कॉलेज की जमीन पर अवैध कब्जा करने वाले दबंगों पर पुलिस ने कार्रवाई की है।शासकीय कॉलेज की करोड़ों की जमीन पर दबंग अवैध कब्जा कर कार वॉश का गैराज बनाकर संचालित कर रहे थे। जिला प्रशासन ने अमले के साथ पहुंचकर जेसीबी मशीन की मदद से गैराज को तोड़कर शासकीय जमीन को मुक्त कराया है।
दरअसल चार शहर के नाका स्थित भगवत सहाय कॉलेज प्रबंधन ने प्रशासन से कॉलेज की जमीन पर कब्जा कर एक कार वॉश का गैराज खोलने की शिकायत की थी। जिसके बाद पुलिस और प्रशासन ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए। जेसीबी मशीन की मदद से अवैध तरीके से कब्जा कर बनाया गए गैराज को ढहाया गया।करीब 2 हजार वर्गफीट से ज्यादा की जमीन से कब्जा हटाया।जिसकी कीमत एक करोड़ रुपए के आसपास बताई गई है।बताया जा रहा है कॉलेज की जमीन पर गजेन्द्र लोधी नाम के एक दबंग ने अवैध कब्जा कर जमीन पर कार वॉश का गैराज खोल रखा था।प्रशासन ने इस पूरे मामले में गजेन्द्र लोधी के खिलाफ भी कार्रवाई के आदेश दिया हैं।

LEAVE A REPLY