टीम इंडिया में जगह बनाने पास करना होगा ‘टाइम ट्रायल टेस्ट’

0
0

मुम्बई। भारतीय क्रिकेटबोर्ड (बीसीसीआई) अब खिलाड़ियों की फिटनेस से जुड़ा एक नया टेस्ट लेकर आया है, जिसका नाम है ‘टाइम ट्रायल टेस्ट’। ऐसे में अब भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए सभी खिलाड़ियों को यो यो टेस्ट के साथ ही इस नये टेस्ट को भी पास करना होगा।
बीसीसीआई के अनुसार ‘टाइम ट्रायल टेस्ट’ में खिलाड़ियों की गति और उनकी सहनशीलता की जांच होगी। इस टेस्ट में खिलाड़ियों को 2 किलोमीटर तक की दूरी तय करनी होगी। एक रिपोर्ट के अनुसार, तेज गेंदबाजो को यह टेस्ट 8 मिनट और 15 सकेंड में पूरा करना होगा, जबकि बल्लेबाजों, स्पिन गेंदबाज और विकेटकीपर को यह टेस्ट 8 मिनट और 30 सेकेंड में पूरा करना होगा। इसे टेस्ट के आने से यो यो टेस्ट को खत्म नहीं किया जाएगा, बल्कि अब टीम इंडिया में जगह बनाने के लिए ये दोनों टेस्ट पास करने होंगे। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, ‘बोर्ड को ऐसा लगा कि फिटनेस स्तर को बेहतर करने में ये टेस्ट अहम भूमिका निभाते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि फिटनेस स्तर को और बेहतर किया जाये। टाइम ट्रायल एक्सरसाइज हमको मुकाबला करने के लिए और बेहतर बनाएगी। बोर्ड हर साल स्टैंडर्ड को बढ़ाता रहेगा।’
बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह से मंजूरी मिलने के बाद बीसीसीआई के सभी अनुबंधित खिलाड़ियों को इस नए टेस्ट और इसको पास करने के मापदड़ों के बारे में जानकारी दे दी गई है। इस टेस्ट को फरवरी, जून और अगस्त/सितंबर में रखा जाएगा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए फरवरी में होने वाले इस टेस्ट में भाग लेना जरुरी नहीं है पर सीमित ओवरों के लिए चयनित खिलाड़ियों को इस टेस्ट को पास करना होगा।

LEAVE A REPLY