सेफ्टी एयर बैग खुले फिर भी नहीं बची जान, 3 की मौत

0
5

100-120 की स्पीड में चल रही थी कार, कई बार धीमी करने कहा, पर अंकित बोला- नो प्रॉब्लम
ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
शनिवार रात मॉल से निकलने के साथ ही अंकित 100 से 120 की स्पीड में कार दौड़ा रहा था। मैंने और मामा ने कई बार उसे स्पीड कम करने के लिए कहा, लेकिन उसने हर बार नो प्रॉब्लम कह कर अनसुना कर दिया। कुछ ही मिनट बाद हमारी कार आगे जा रही अन्य कार से टकरा गई। हादसे में सेना में हवलदार अखिलेश तोमर व अन्य की मौके पर ही मौत हो गई थी।
घटना की चश्मदीद लक्ष्मी भदौरिया ने रविवार सुबह पुलिस के सामने पूरी घटना सुनाई। घटना के बारे में सुनाते-सुनाते वह रो पड़ी। उसे पता था, घटना में उसने अपने मामा को खो दिया है। वह सोच रही थी कि काश! वह अंकित की कार में नहीं बैठते तो ठीक होता। हादसे में रविवार सुबह तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि दो की हालत गंभीर है।
यह हुई थी घटना
भिंड निवासी लक्ष्मी भदौरिया डीडी नगर निवासी अपने मामा अखिलेश सिंह तोमर के साथ शनिवार रात फूलबाग स्थित मॉल में खरीदारी करने आई थी। अखिलेश सेना में हवलदार थे। वह अंबाला में पदस्थ थे। नए साल पर छुट्‌टी लेकर वह घर आए थे। परिवार में उनके पत्नी व एक बच्चा भी है। जब खरीदारी कर वह लौट रहे थे, तो मॉल में ही लक्ष्मी को उसका दोस्त अंकित राजावत मिल गया। वह अपनी कार एमपी30 बीसी-4141 में सवार था। उसने उन्हें घर छोड़ने के लिए कहा था।
अंकित राजावात के अलावा कार में उसके दोस्त अंकित जादौन, अनुज भारद्वाज बैठे थे। रात 12 बजे के करीब कार रेसकोर्स रोड पर गौशाला के पास गिट्‌टी उतार रखे डंपर से बचने के चक्कर में आगे खड़ी कार से जा टकराई थी। हादसे में फौजी अखिलेश तोमर, राहगीर डबरा निवासी संदीप जाट की मौके पर ही मौत हो गई थी। हादसे में अनूप भारद्वाज ने रात 2 बजे दम तोड़ दिया। दोनों अंकित की हालत नाजुक है।
सेफ्टी एयरबैग भी नहीं बचा पाए जान
हादसे में कार के चारों सेफ्टी एयरबैग खुल गए, लेकिन इसके बाद भी 3 जिंदगी हमेशा के लिए खामोश हो गईं। हादसे में दो गंभीर रूप से घायल हैं। जिनकी जान पर संकट टला नहीं है। रविवार सुबह पुलिस ने एक्सपर्ट अखिलेश भार्गव से कार की जांच कराई। प्रारंभिक जांच में पता लगा है कि घटना के समय कार की स्पीड 100 से 120 के बीच रही होगी, तभी एयरबैग खुलने के बाद भी 3 जान चली गई हैं।
इनकी हुई मौत, रविवार दोपहर पोस्टमार्टम
हादसे में सेना में हवलदार अखिलेश तोमर निवासी डीडी नगर, मूल निवासी मुरैना की मौके पर ही मौत हो गई। पत्नी और बच्चों से मिलने नए साल पर छुट्‌टी लेकर आए थे। इसके अलावा छात्र अनुज भारद्वाज पुत्र शिवकुमार निवासी भिंड की भी मौत हुई है। तीसरा संदीप जाट निवासी अरू गांव डबरा की मौत हुई है। यह राहगीर था इसका पता ही नहीं चला कि यह वहां क्यों आया था, जबकि अंकित राजावत, अंकित जादौन व लक्ष्मी भदौरिया घायल हैं। सभी शवों का रविवार दोपहर पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजन के सुपुर्द कर दिए गए हैं।

LEAVE A REPLY