उपचुनाव वाले क्षेत्रों में माननीयों के नहीं कट रहे दिन,14 अगस्त तक लोकार्पण न भूमिपूजन

0
15

भोपाल। प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों उपचुनाव होना है। उपचुनाव वाले क्षेत्रों में इनदिनों नेताओं की बेचौनी बढ़ी हुई है। इसकी वजह यह है कि सरकार ने 14 अगस्त तक नेताओं के भ्रमण पर रोक लगता दिया है। लोकार्पण और भूमिपूजन के कार्यक्रम बंद पड़े हुए हैं। ऐसे में नेताओं का दिन काटे नहीं कट रहे हैं।
प्रदेश में 14 अगस्त तक किल कोरोना पार्ट-2 अभियान की शुरूआत हो गई। कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या से चिंतित सरकार ने इस अभियान में कुछ सख्त हिदायत दी हैं। जनप्रतिनिधियों को भीड़भाड़ जुटाने और विकास कार्यों के भूमिपूजन व लोकार्पण से दूर रखा है। इसकी सीधी चोट ग्वालियर तथा पूर्व विधानसभा क्षेत्रों के माननीयों पर हुई है। दोनों विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होना हैं। ग्वालियर में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर व पूर्व में मुन्नाालाल गोयल सक्रियता बढ़ाते जा रहे थे। विकास कार्यों की सूची लेकर वे कभी निगम मुख्यालय पहुंच रहे थे तो कभी अधिकारियों को अपने बंगले पर बुला रहे थे। सरकार के निर्देश पर अधिकारियों को फिलहाल राहत मिली है।
विकास कार्यों के लोकार्पण व भूमिपूजन के प्रति मंत्री तोमर व पूर्व विधायक मुन्नाालाल गोयल अधिक सक्रिय हैं। वे चुनाव से पहले अपनी-अपनी विधानसभा क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा काम कराना चाहते हैं जिससे चुनाव में जनता को कार्यों की गिनती कराई जा सके। भाजपा में आते ही लॉकडाउन हो गया था, इसलिए अधिकत वोटर तो अब तक यह समझ ही नहीं सके कि वे भाजपा में हैं। उनकी जुबान पर पंजा ही रहता है। इसलिए वे अपने क्षेत्रों में लगातार भ्रमण कर रहे थे। नगर निगम से कार्यों की सूची लेकर भूमिपूजन और लोकार्पण में जुटे थे। काम की जल्दबादी का आलम यह है कि बरसते पानी में डामरीकरण के कार्य कराए जा रहे हैं। यह सब इसलिए जिससे जनता को दिलो-दिमाग में यह बात घर कर जाए कि वे भाजपा में हैं और विकास कार्यों के प्रति अधिक सक्रिय हो गए हैं।
ऑनलाइन लोकार्पण व भूमिपूजन की सुविधा
किल कोरोना अभियान पार्ट-2 के तहत जनप्रतिनिधियों को ऑनलाइन लोकार्पण व भूमिपूजन की छूट दी है, लेकिन यह व्यवस्था माननीयों को रास नहीं आ रही। क्योंकि जब तक वे काफिले के साथ क्षेत्र में न पहुंचें तब तक भला कौन जानेगा कि वे जनता की समस्याएं दूर करने के लिए ताकत लगा रहे हैं। ऑनलाइन सेटअप से तो चुनिंदा लोग ही उन्हें देख, सुन सकेंगे।
करीब 90 करोड़ के होना हैं काम
ग्वालियर तथा पूर्व विधानसभा क्षेत्र में चुनाव से पहले करीब 90 करोड़ के काम कराने की तैयारी है। कुछ काम निगम निधि से तो कुछ के लिए मंत्री तोमर और पूर्व विधायक गोयल शासन से अलग से राशि स्वीकृत कराकर लाए हैं। इसमें सीसी और डामरीकरण की सड़कें, पार्क निर्माण, मुक्तिधामों का जीर्णोद्घार जैसे कार्य प्रमुख हैं। मंत्री तोमर और गोयल ने निगम अधिकारियों से चर्चा कर इनमें से कुछ कार्य शुरू करने की तैयारी कर ली थी। अब उन्हें इंतजार करना होगा। भूमिपूजन व लोकार्पण अब स्वतंत्रता दिवस के बाद ही कराने की योजना है।
तैयार है रेलवे ओवरब्रिज
मल्लगढ़ा से भदरौली होते हुए मुरैना जाने के लिए रेलवे ओवरब्रिज बनकर लोकार्पण के लिए तैयार है। स्वतंत्रता दिवस से पहले फीता काटने की तैयारी थी। इसी तरह ग्वालियर तथा पूर्व विधानसभा क्षेत्रों में एक दर्जन से ज्यादा सड़कों का सीसी कार्य, हुरावली, आनंदनगर के मुक्तिधामों के जीर्णोद्घार कार्य के भूमिपूजन की तैयारी थी। भूमिपूजन अब 15 अगस्त के बाद ही किया जाएगा।

LEAVE A REPLY