सभी के सहयोग से कोरोना से जीतेगा ग्वालियर : सीएम शिवराज सिंह

0
11

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सभी के सहयोग से ग्वालियर कोरोना पर जीत हासिल करेगा। लेकिन कोरोना को हराने के लिये हमें सावधान रहकर दूसरों को भी जागरूक करना होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज ग्वालियर में जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह (डिस्ट्रिक क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप) की बैठक में जिले में कोरोना की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमित मरीज के इलाज में कोई कमी न रहे। इस संक्रमण से किसी मरीज की मृत्यु नहीं होना चाहिए। कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिये जिन संसाधनों की भी जरूरत होगी, प्रदेश सरकार उनकी कमी नहीं आने देगी।
चंबल के निवासियों की इम्युनिटी बहुत मजबूत है
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कोरोना के खिलाफ लड़ाई जनता के सहयोग से ही जीती जा सकती है। जिला प्रशासन एवं पुलिस सभी को भरोसे में लेकर इस अभियान को आगे बढ़ाए। उन्होंने कहा खुशी की बात है कि ग्वालियर एवं चंबल संभाग के निवासियों की प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) बहुत मजबूत है। यही वजह है कि दोनों संभाग में कोरोना मरीजों की मृत्यु दर अत्यंत कम है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर में कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण रहा है। मगर पिछले एक हफ्ते में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ी है। प्रदेश सरकार इस स्थिति को लेकर पूरी तरह सजग है। इसी सिलसिले में आज ग्वालियर में समीक्षा बैठक रखी गई। उन्होंने बैठक में निर्देश दिए कि परिस्थितियों को ध्यान में रखकर रणनीति में भी बदलाव करें, जिससे कोरोना का फैलाव न होने पाए।
कोरोना से बचाव पर विशेष जोर
मुख्यमंत्री ने कोरोना से बचाव के लिए पुख्ता रणनीति के साथ काम करने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि जिले में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए चिन्हित अस्पतालों व आइसोलेशन सेंटर में कम से कम ४ हजार बिस्तर की व्यवस्था सुनिश्चित करें। साथ ही अस्पतालों में ऑक्सीजन सहित पुख्ता चिकित्सीय इंतजाम किए जाएं, जिससे कोरोना संक्रमित मरीजों का बेहतर से बेहतर इलाज हो सके। उन्होंने यह भी कहा कि अन्य बीमारियों के इलाज के लिये भी अस्पताल निर्धारित रहें।
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा ‘किल कोरोना अभियान’ की सर्वे की गति बढ़ाएं। अभियान के तहत सर्वे का काम हर हाल में १५ जुलाई तक पूर्ण हो जाना चाहिए। साथ ही जिन मरीजों में कोरोना के लक्षण पाए जाएं उनकी जाँच भी हो जाए।
9 हजार पूल सेम्पल कराए गए हैं
कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में जानकारी दी कि जिले में सामुदायिक संक्रमण का पता लगाने के लिये पूल सेम्पलिंग का काम प्रमुखता से किया जा रहा है। अब तक लगभग ९ हजार पूल सेम्पल कराए गए हैं, जिनमें मात्र २५ कोरोना संक्रमित मिले हैं। संक्रमितों की कॉन्ट्रेक्ट हिस्ट्री मिली है। इससे पता चलता है कि जिले में अभी सामुदायिक संक्रमण जैसी स्थिति नहीं है। जिले में संचालित ३० फीवर क्लीनिक में इलाज के लिये आए मरीजों की सेम्पलिंग भी प्रमुखता से कराई गई है। फीवर क्लीनिक के मात्र एक प्रतिशत मरीज ही कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जिले में अब तक कुल ३९ हजार कोरोना जाँच हो चुकी हैं और संक्रमण का प्रतिशत मात्र २.८ प्रतिशत है। जिले का कोई भी संक्रमित मरीज अत्यंत गंभीर स्थिति अर्थात वेंटीलेटर पर नहीं है। मरीजों के ठीक होने की दर (रिकवरी) भी लगातार बढ़ रही है। उन्होंने जानकारी दी कि जिले में केन्टोनमेंट क्षेत्र की निगरानी में वार्ड समितियों का भी सहयोग लिया जा रहा है। कलेक्टर ने कोरोना से निपटने के लिये बनाई गई नई रणनीति बताई। साथ ही बिना मास्क के घूमने वाले लोगों से कोरोना वॉलेन्टियर के रूप में काम लेने के संबंध में भी जानकारी दी।
ये भी रहे उपस्थित
शनिवार को यहाँ मोतीमहल के मानसभागार में आयोजित हुई बैठक में प्रदेश के लोक स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, राज्य सरकार के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर व श्रीमती इमरती देवी, राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह एवं सांसद विवेक नारायण शेजवलकर भी मौजूद थे।
इनकी भी रही मौजूदगी
पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा व नारायण सिंह कुशवाह, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, मुन्नालाल गोयल व मदन कुशवाह, जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा यादव तथा कमल माखीजानी, देवेन्द्र शर्मा, कौशल शर्मा व दीपक तिवारी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण मौजूद थे। साथ ही मुख्यमंत्री के ओएसडी बी एम शर्मा, संभाग आयुक्त एम बी ओझा, आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदामा खाड़े, पुलिस महानिरीक्षक राजाबाबू सिंह, कलेक्टर कâौशलेन्द्र विक्रम सिंह व पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

कोरोना योद्धा स्व. हेमलता की बेटी को सौंपा 50 लाख का चैक, बेटी को नौकरी भी मिलेगी
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के खिलाफ जंग में अपने प्राणों की आहुति देने वाली कोरोना योद्धा स्व. हेमलता वर्मा की पुत्री कु. प्रीति वर्मा को ५० लाख रूपए की सहायता राशि का चैक सौंपा। मुख्यमंत्री कोविड-१९ योद्धा कल्याण योजना के तहत यह सहायता राशि दी गई है। मुख्यमंत्री ने प्रीति वर्मा को सरकारी नौकरी दिलाने का भरोसा भी दिलाया। उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी को इस आशय का प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। ज्ञात हो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती हेमलता वर्मा की ड्यूटी कोविड-१९ के सर्वे कार्य में लगी थी। ड्यूटी के दौरान वे कोरोना से संक्रमित हो गई। ग्वालियर के सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में इलाज के दौरान गत २८ जून को उनकी मृत्यु हो गई थी।

LEAVE A REPLY