अब निगम कमिश्रर के पीए भी कोरोना पोजीटिव, निगम मुख्यालय में हडकंप

0
8

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
कोरोना का बढता कहर अब धीरे-धीरे प्रशासनिक क्षेत्र में भी अपना रूप दिखा रहा है। बीते दिनों मुरैना केे नगर निगम कमिश्रर के कोरोना पोजीटिव निकलने के बाद आज ग्वालियर नगर निगम कमिश्रर के पीए अंकुर गुप्ता की जांच भी कोरोना पोजीटिव आई है।
ज्ञातव्य है कि नगर निगम के पीए अंकुर गुप्ता के कोरोना पोजीटिव निकलने से पूरे निगम मुख्यालय में हडकंप मच गया है। अब उनके माध्यम से नगर निगम कमिश्रर से मिलने वाले अधिकारियों की भी कोविड जांच की जायेगी। उल्लेखनीय है कि अंकुर गुप्ता बेहद मेहनती और कुशल निज सचिव हैं उनकी तेज तर्रार शैली के कारण वह सभी नगर निगम कमिश्ररों की निजी पदस्थापना में पदस्थ रहते हैं। उनकी कोरोना पोजीटिव होने की पुष्टि नगर निगम पीआरओ मधु शोलापुरकर ने की है।

——————किल कोरोना अभियान———————————————————–
एक जुलाई से 15 जुलाई तक
ग्वालियर।सम्पूर्ण प्रदेश की तरह ग्वालियर जिले में भी “किल कोरोना अभियान” एक जुलाई से संचालित होगा। अभियान के तहत घर-घर जाकर सर्वेक्षण का कार्य किया जायेगा। नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये यह एक महत्वपूर्ण अभियान है। इस अभियान को ग्वालियर जिले में पूरी गंभीरता के साथ चलाया जाए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सोमवार को “किल कोरोना अभियान” के लिये इंसीडेंट कमांडरों के प्रशिक्षण में यह निर्देश दिए हैं।
कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित इस प्रशिक्षण में जिले में नियुक्त सभी इंसीडेंट कमांडर उपस्थित थे। इस दौरान कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि अभियान के तहत गठित दल अपने-अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर सर्वेक्षण का कार्य करेंगे। सभी इंसीडेंट कमांडर अपने-अपने क्षेत्र में इस अभियान को प्रभावी रूप से संचालित करें। अभियान के तहत जनप्रतिनिधियों एवं गणमान्य नागरिकों का भी सहयोग लिया जाए।
कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि “किल कोरोना अभियान” स्पेशल फीवर स्क्रीनिंग अभियान है। यह अभियान एक जुलाई से 15 जुलाई तक चलाया जायेगा। कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार की श्रृंखला को तोड़ने एवं आम जनों को संक्रमण से बचाव हेतु जागरूक करने के लिये यह अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत संभावित रोगियों की समय पर पहचान कर उनका उपचार कराना एवं आगे संक्रमण न फैले, इसकी रोकथाम करने के साथ-साथ गर्भवती व टीकाकरण से छूटे बच्चों की खोज कर टीकाकरण करना भी है।

LEAVE A REPLY