साल का तीसरा चंद्र ग्रहण पांच जुलाई को

0
13

नई दिल्ली । इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण 5 जुलाई को पड़ेगा। इस ग्रहण काल में सूतक काल मान्य नहीं होगा। यह भारत सहित दक्षिण एशिया के कुछ हिस्से अमेरिका, यूरोप व अस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। वर्ष 2020 में कुल 6 ग्रहण लगेंगे। इसमें से दो चंद्र ग्रहण (10 जनवरी, 5 जून) व एक सूर्यग्रहण (21 जून) लग चुका है। आगामी समय में दो चंद्र ग्रहण व एक सूर्य ग्रहण और लगेगा।

5 जुलाई को चंद्रग्रहण लगेगा, लेकिन यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। लास एंजिल्स में 4 जुलाई रात 8 बजकर 5 मिनट से शुरू होकर 10 बजकर 52 मिनट तक दिखाई देगा। यह पौने तीन घंटे तक देखा जा सकेगा। केपटाउन में 5 जुलाई को सुबह 5 बजे तक खत्म होगा। इसके बाद 5 महीने 25 दिन बाद 30 नवंबर को चंद्रग्रहण व जब 14 दिसंबर को टोटल सूर्यग्रहण होगा। इसे भी हम भारत से नहीं देख पाएंगे। धरती पर हर वर्ष ग्रहण लगते हैं। इनकी संख्या कम से कम चार और अधिकतम 6 होते हैं। ग्रहण खगोलीय घटना है। यह सीखने की चीज है कि पृथ्वी, चंद्रमा और सूर्य भी गति करते हैं। ग्रहण के पडऩे से किसी व्यक्ति की राशि पर कोई असर नहीं पड़ता है। ग्रहण का होना सामान्य खगोलीय घटना है। ग्रहण को ऐसे समझ सकते हैं कि चंद्र ग्रहण जब चंद्रमा और सूर्य के मध्य पृथ्वी आ जाती है। वहीं पृथ्वी और सूर्य के बीच में चंद्रमा आने से सूर्य ग्रहण पड़ता है। सूर्य ग्रहण हमेशा अमावस्या और चंद्रमा पूर्णिमा के दिन पड़ता है। अभी पृथ्वी और चंद्रमा के बीच 4 लाख किमी की दूरी का अंतर है और अपनी-अपनी कक्षा में गतिमान हैं। चंद्रमा तीन लाख किलोमीटर की दूरी पर परिक्रमा करता है।

LEAVE A REPLY