बदलने वाला है आपका हवाई सफर, जानें- किन नियमों का करना होगा पालन

0
11

नई दिल्ली :देश में 25 मार्च से जारी लॉकडाउन के चलते घरेलू उड़ानें भी बंद हैं और अब इन्हें दो महीने बाद 25 मई से दोबारा शुरू किया जा रहा है. एयरपोर्ट पहुंचने से लेकर विमान में बैठने तक के लिए कई नियम बनाए गए हैं जिनका यात्रियों को पालन करना होगा.
नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में लॉकडाउन है. इस समय लॉकडाउन का चौथा चरण चल रहा है जिसमें सरकार की तरफ से काफी रियायतें दी गई हैं. इसी बीच हवाई सफर को भी हरी झंडी मिल गई है. पर 25 मई से जब एयरपोर्ट खुलेंगे तो तस्वीर पहले की तुलना में काफी बदल चुकी होगी. यात्रियों को पहले की तुलना में कहीं ज्यादा सावधानियां बरतनी होगी.
एयरपोर्ट पर उतरते ही आपको बदलाव नजर आने लगेगा. एयरपोर्ट पर जैसे ही आप उतरेंगे गाड़ियां एक निश्चित जगह खड़ी भी नजर आएंगी वहीं जगह-जगह पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए चेंज बनाए गए हैं. इसके साथ ही सैनिटाइजेशन का भी पूरा इंतजाम किया गया है.
इसके बाद जब एयरपोर्ट के अंदर जाने की बारी आएगी तो वहां पर भी यात्री की शुरुआती जांच होगी. इसके साथ ही आरोग्य सेतु एप दिखाना होगा, अगर आरोग्य सेतु एप किसी के पास नहीं है तो उसको एक फॉर्म भरकर जानकारी देनी होगी की वो कोरोना संक्रमित नहीं है और ना ही किसी ऐसे इलाके में रहता है जिसको कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है. इस दौरान जो सामान होगा उसको भी सैनिटाइज करने का इंतजाम है.
अंदर दाखिल होते ही न हाथ बल्कि जूते भी होंगे सैनिटाइज
एयरपोर्ट के अंदर दाखिल होते ही जूतों को सैनिटाइज करने का इंतजाम किया गया है. इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग के जरिए शरीर का तापमान चेक किया जाएगा और जब वह सही होगा तो सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करते हुए यात्री को अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी.
अब कियोस्क मशीन से लेना होगा बोर्डिंग पास और सामान को खुद बैगेज में डालना होगा
अंदर पहुंचने के बाद अगर किसी यात्री को बोर्डिंग पास लेना है तो वह इलेक्ट्रॉनिक बोर्डिंग पास मशीन से बोर्डिंग पास निकाल सकता है, लेकिन वहां पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा. यानी अब पहले की तरह काउंटर से बोर्डिंग कार्ड नहीं मिलेगा. बोर्डिंग कार्ड पहले ही लेकर जब यात्री काउंटर पर पहुंचेगा तो वह वहां पर अगर उसका कोई सामान बैगेज में जाना है तो उसको खुद ही टैग करेगा और बैगेज बेल्ट पर रखेगा. इस दौरान भी कोई कर्मचारी सामान को हाथ नहीं लगाएगा. यात्री इस दौरान मशीन से खुद बैगेज टैग निकालकर लगा सकता है या फिर एक सादे कागज पर अपना नाम और पीएनआर नंबर लिख कर चिपका सकता है.
नियमित अंतराल पर एयरपोर्ट को किया जाएगा सैनिटाइज
जिस दौरान एयरपोर्ट में यात्रियों के आने जाने का सिलसिला चल रहा होगा उस दौरान लगातार सैनिटाइजेशन भी चलता रहेगा. कुछ वक्त के अंतराल पर पूरे एयरपोर्ट को सैनिटाइज किया जाएगा.
बैठने के दौरान भी रखा जाएगा सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल
इस दौरान जो यात्री एयरपोर्ट पहुंचेंगे अगर उनको एयरपोर्ट के अंदर आते ही कुछ खाने पीने का मन है तो कुछ एक काउंटर जरूर खुले मिलेंगे. वहीं इस दौरान अगर किसी यात्री को इंतजार करना है तो जो बैठने का इंतजाम किया गया है वहां पर भी सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर खास जोर दिया गया है.
हर 10 मिनट में बदली जाएगी एयरपोर्ट के अंदर की हवा
इस सब के बीच जो भी लोग एयरपोर्ट आते हैं उनके ज़हन में एक सवाल तो जरूर रहता है कि एयरपोर्ट की बिल्डिंग सेंट्रलाइज्ड एसी वाली है तो कहीं ऐसा तो नहीं कि कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा हो क्योंकि सेंट्रलाइज्ड एसी में अमूमन हवा अंदर ही अंदर घूमती है. इसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली एयरपोर्ट का जिम्मा संभालने वाली जीएमआर कंपनी ने हर 10 मिनट पर हवा बदलने का तरीका भी ढूंढ निकाला है आप हर 10 मिनट पर एयरपोर्ट के अंदर की हवा बदली जाएगी.
बोर्डिंग पास पर अब नहीं लगेगा सिक्योरिटी स्टैंप
बोर्डिंग पास लेने और सामान को पैकेज में डालने के बाद जब यात्री सुरक्षा जांच के लिए आगे बढ़ेंगे तो उनको वहां पर भी पहले की तुलना में कहीं अलग तस्वीर नजर आएगी. अब कोई भी सुरक्षाकर्मी ना तो आपका बोर्डिंग पास हाथ में लेकर दिखेगा और ना ही हाथ से आप की जांच करेगा. ऐसे में अब आपके बोर्डिंग पास ना तो सिक्योरिटी चेक का स्टैम्प लगाया जाएगा और ना ही हाथ से जांच होगी. एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात सीआईएसएफ के जवान अब स्टैंप की जगह कंप्यूटर पर सिक्योरिटी ओके करेंगे.
खाने-पीने के लिए भी किया जाएगा सोशल डिस्टेंसिंग का इस्तेमाल
इतना ही नहीं इसके बाद जब यात्री अंदर बोर्डिंग गेट की तरफ जा रहे होंगे तो उस दौरान भी लगातार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा और मुंह पर मास्क पहने रहना जरूरी होगा. इस दौरान एयरपोर्ट जो यात्री मौजूद होंगे वह भी किसी भी दुकान में नहीं जा सकेंगे. दुकानों में भी सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करना होगा. अगर कोई यात्री एयरपोर्ट पर आकर खाना चाहता है तो वह उसके लिए ऑनलाइन बुक भी कर सकता है और दुकान पर पहुंचने के बाद अपने आप फूड पार्सल लेकर कहीं अलग बैठ कर खा सकता है. इसी तरह से पीने के पानी के लिए अब नल में हाथ लगाना जरूरी नहीं होगा पैर से लीवर दबाकर पानी के नल से पानी पिया जा सकता है. एयरपोर्ट पर बाथरूम को भी बंद कर सैनिटाइज और डिसइनफेक्ट किया जाएगा, ताकि कोरोना संक्रमण के खतरे को कम किया जा सके.
एयरपोर्ट में जगह-जगह लगाए गए सैनिटाइजर
इसके बाद जब यात्री विमान में सवार होने के लिए आगे बढ़ेगा तो वहां पर भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही सैनिटाइजर और मास्क का इस्तेमाल करना जरूरी होगा. इसी को ध्यान में रखते हुए एयरपोर्ट का जिम्मा संभालने वाली कंपनी जीएमआर ने पूरे एयरपोर्ट पर करीबन 400 सेंसर वाले सैनिटाइजर लगा रखे हैं. जिससे कि लोग बिना छुए अपने हाथों को सैनिटाइज कर सकें.

LEAVE A REPLY