SBI ने खाताधारकों को दी चेतावनी, आ गया ‘बैंकिंग वायरस’

0
10

नई दिल्ली । सरकारी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने उपभोक्ताओं के लिए एक खास एडवाइजरी साझा की है और उन्हें खतरनाक बैंकिंग वायरस से अलर्ट किया है। करबियरस नाम के खतरनाक मैलवेयर की मदद से खाताधारकों को निशाना बनाया जा रहा है। यह मैलवेयर फेक एसएमएस भेजकर यूजर्स को बड़े ऑफर्स के बारे में जानकारी देता है और अनजान लिंक्स पर क्लिक करवाने या फिर ऐप्स डाउनलोड करने के बाद उन्हें शिकार बना लेता है। ऐसे ऐप्स का मकसद खाताधारकों के पैसों पर हाथ साफ करना है। ट्विटर पर एसबीआई के ऑफिशल हैंडल पर किए गए ट्वीट में लिखा है, ‘ऐसे फेक एसएमएस से बचकर रहें जो बड़े ऑफर्स का लालच या मौजूदा महामारी से जुड़ी जानकारी देते हैं और अनजान लिंक्स पर जाने या फिर अनजान सोर्स से कोई ऐप्स डाउनलोड करने को कहते हैं। यह आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश है।’ पोस्ट में देश के सबसे बड़े पब्लिक सेक्टर बैंक ने एक इमेज भी शेयर की है, जिसमें ‘करबियरस अलर्ट’ कैप्शन दिया गया है। यह हाल ही में रिलीज हुई वेब सीरीज पाताल लोक से इंस्पायर लग रहा है।
बड़े ही क्रिएटिव तरीके से एसबीआई ने स्वर्ग लोक, धरती लोक और पाताल लोक तीन हिस्सों में इसे बांटा है। इसमें पाताल लोक के यूजर्स को करबियरस ट्रोजन मैलवेयर को ऑनलाइन बैंकिंग करने वाले इन्फेक्टेड यूजर्स के लिए पाताल लोक बताया गया है। इसमें बताया गया है कि स्वर्ग लोक के ऐसे यूजर्स हैं, जिन पर हमेशा फ्रॉड का खतरा बना रहता है। धरती लोक के यूजर उन्हें माना गया है, जिन्हें इस मैलवेयर और खतरे का पता है और इसके बावजूद वे अनजान लिंक्स पर क्लिक करते हैं। वहीं, पाताल लोक के यूजर्स इन्फेक्टेड हो चुके हैं। सामने आया ट्रोजन मैलवेयर दरअसल यूजर्स के बैंकिंग डीटेल्स चोरी करने का काम करता है। इन डीटेल्स में क्रेडिट कार्ड नंबर्स, सीवीवी और बाकी डेटा शामिल है। इसके अलावा ट्रोजन की मदद से विक्टिम्स को शिकार बनाने के बाद उनकी पर्सनल जानकारी और टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन डीटेल्स भी चोरी किए जा सकते हैं। कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान फ्रॉड करने वाले भी पहले के मुकाबले ज्यादा ऐक्टिव हो गए हैं। यूजर्स को किसी अनजान लिंक पर क्लिक ना करने और केवल प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से ही ऐप्स डाउनलोड करने की सलाह दी जाती है।

LEAVE A REPLY