लॉकडाउन में ढील से पेट्रोल और डीजल की मांग में सुधार

0
8

नई दिल्ली । कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के चलते अप्रैल में फ्यूल की मांग में रेकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई लेकिन मई में लॉकडाउन की शर्तों में कुछ ढील दिए जाने के कारण इसमें कुछ सुधार दिखा है। मई के पहले पखवाड़े में ईंधन की मांग बढ़ी है। हालांकि लॉकडाउन 4.0 के दूसरे दिन 19 मई को पेट्रोल और डीजल के दाम में कहीं कोई कमी या बढ़ोतरी की खबर नहीं मिली है।

अप्रैल के पहले पखवाड़े के मुकाबले में इसमें काफी सुधार दिखाई दिया है। सरकारी क्षेत्र की कंपनियों के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक मई के पहले पखवाड़े में डीजल की खपत अप्रैल 2020 की इसी अवधि की तुलना में 75 फीसदी बढ़कर 19.30 लाख टन पर पहुंच गई। इसी तरह पेट्रोल की बिक्री इसी अवधि में 72 फीसदी बढ़कर 5.75 लाख टन हो गई। वहीं विमान ईंधन की मांग करीब दोगुनी होकर 39 हजार टन पर पहुंच गई। हालांकि, मई 2019 से यदि इस साल मई के आंकड़ों की तुलना की जाती है तो खपत करीब आधी है। राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का भाव प्रति लीटर 71.26 रुपए तथा डीजल का भाव प्रति लीटर 69.39 रुपए है। दिल्ली में 5 मई के बाद पेट्रोल तथा डीजल के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ है। विदेशी मुद्रा के रेट्स के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतें क्या हैं। इसी के आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। इन्हीं के आधार पर तेल कंपनियां पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करती हैं।

LEAVE A REPLY