65000 प्रवासियों को दिल्ली सरकार ने ट्रेनों में घर भेजा : मनीष सिसोदिया

0
8

नई दिल्ली। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि अब तक, दिल्ली से लगभग 65,000 प्रवासियों को ट्रेनों द्वारा उनके गृह राज्यों में भेजा गया है। हम दिल्ली में फंसे प्रवासी मजदूरों को वापस उनके घर भेजने के लिए विभिन्न राज्यों से अनुमति मांग रहे हैं।

सिसोदिया ने रविवार को कहा था कि लॉकडाउन के कारण दिल्ली में फंसे प्रवासी मजदूरों को सुविधाजनक तरीके से ट्रेनों के जरिये वापस उनके गृह राज्यों तक पहुंचाने लिए लिए दिल्ली सरकार ने पूरे इंतजाम कर लिए हैं। इसके लिए दिल्ली सरकार ने आज एक आधिकारिक वेबसाइट जारी कर घर जाने के इच्छुक लोगों से इस पर रजिस्ट्रेशन कराने को कहा था। मनीष सिसोदिया ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को इन स्पेशल ट्रेनों में जाने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। इसके लिए वेब पोर्टल का लिंक शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि बिना रजिस्ट्रेशन किसी को ट्रेन में जाने की इजाजत नहीं दो जाएगी।
उन्होंने कहा कि ट्रेनों से वापस लौटने वाले अधिकतर लोग वो हैं जो 2 से 6 महीने पहले किसी काम की तलाश में दिल्ली आए थे। काम मिला भी, लेकिन लॉकडाउन ने अब नाउम्मीद कर दिया है। मैंने पूछा कब लौटोगे, जवाब मिला- खुलेगा तो लौटेंगे।
वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लाखों मजदूर अपने घर जाना चाहते हैं, अब 10-20 ट्रेन चलाने से काम नहीं चलेगा। मेरी केन्द्र से अपील है कि वे अगले 4-5 दिन रोजाना 100 ट्रेनें दे दें, हम सारे मजदूरों को घर पहुंचा देंगे। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि दिल्ली में रह रहे प्रवासी मजदूरों की जिम्मेदारी हमारी हैं। अगर वो दिल्ली में रहना चाहते हैं तो उनका पूरा ख्याल रखेंगे और अगर वो अपने गांव लौटना चाहते हैं तो उनके लिए ट्रेन का इंतजाम कर रहे हैं। किसी भी हालत में उन्हें बेसहारा नहीं छोड़ेंगे।
दिल्ली में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के 500 नए मामले सामने के साथ ही यहां कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 10,554 पर पहुंच गई है।
दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, राजधानी में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 500 और पॉजिटिव केस सामने आए हैं। दिल्ली में अब कुल मामले बढ़कर 10,554 हो गए हैं, जिनमें से 5638 सक्रिय मामले हैं और इस महामारी के चलते अब तक 166 लोगों की मौत हो चुकी हैं।

LEAVE A REPLY