मेट्रीमोनियल वेबसाईट के जरिये से शादी का झाँसा देकर एक लाख रुपये की ठगी करने वाले आरोपी सायबर पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
11

– बाद मे माता व पिता के दुबई में लॉकडाउन में फँसे होने के बहाने से ऐंठे थी रकम
– इन्दौर, हरियाणा में दर्ज है रेप, जालसाजी के मामले, 50 महिलाओ के संपर्क मे था आरोपी
– मेट्रीमोनियल साईट पर बनाई कई प्रोफाईल, सभी में दी है अलग अलग जानकारी
– जम्मू कश्मीर का रहने वाला है आरोपी, भोपाल में रहकर कर रहा था महिलाओं से ठगी
भोपाल। राजधानी की सायबर टीम ने विवेचक अभिषेक सोनेकर बीते दिनो ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो मेट्रीमोनियल वेबसाईट के जरिये से शादी का झाँसा देकर यूवतियो शादी का झोंसा देकर उनसे लाखो रुपये की रकम ऐंठ लेता था। आरोपी ने बीते दिनो ऐसी यूवती कि शिकायत पर उसे गिरफ्तार किया है, जिससे शातिर ने लॉकडाउन में दौरान दुबई मे अपने माता-पिता के फँसे होने का झांसा देकर एक लाख की रकम ऐंठ ली थी। आला अधिकारियो के निर्देश पर पूरे मामले मे सायबर सेल के तेज-तर्रोर विवेचक अभिषेक सोनेकर की भुमिका महत्वपूर्ण रही।

अभिषेक सोनेकर ने बताया कि पकडाये गये आरोपी के खिलाफ एमपी के इन्दौर, ओर हरियाणा के फरीदाबाद मे रेप, जालसाजी के मामले दर्ज है, ओर अभी आरोपी झांसे मे ली गई देश के अलग-अलग शहरो की करीब 50 महिलाओ से सोशल मीडीया के जरिये संपर्क मे था, जिन्हे वो जल्द ही अपना शिकार बनाकर लाखो की रकम ऐंठ लेता। टीम ने बताया कि शातिर आरोपी ने यूवतियो को झांसे मे लेने के लिये मेट्रीमोनियल साईट पर अपनी कई अलग-अलग आर्कषक प्रोफाईल तैयार की थी, ओर सभी प्रोफाईल मे उसने अपने बारे मे अलग अलग जानकारी दी है। पकडाया गया शातिर जम्मू कश्मीर का रहने वाला है, जो फिलहालभोपाल में रहकर महिलाओं से ठगी कर रहा था। पुलिस के अनुसार शातिर की पहचान अमन वर्मा मनहोत्रा पिता प्रेमपाल (32) वर्तमान पता निवासी फ्लैट न. 2016, ए टॉवर, फेथ इम्पिरीयल हाईटस् सोसाईटी, कोलार के रुप मे हुई है, जो कि मूल रुप से बिशनाह, जम्मू कश्मीर का रहने वाला है। पुलिस ने आरोपी के पास से ठगी की वारदातो के दोरान इस्तेमाल किया जाने वाले मोबाईल फोन व लेपटॉप जप्त किये गये हैं। विवेचक अभिषेक सोनेकर ने पूरे मामले की जानकारी देते हुए बताया कि बीती 10 मई को पिंकी (बदला हुआ नाम) की यूवती ने राज्य सायबर थाना, भोपाल में शिकायत दर्ज कराते हुए बताया कि मैट्रिमोनियल वेबसाईट शादीडॉट कॉम की प्रोफाईल आई.डी जिसपर उसने अपनी शादी के लिये प्रोफाईल डाली थी, उसके जरिये एक यूवक से उसकी शादी को लेकर बातचीत शुरु हुई थी। यूवती ने आगे बताया कि शातिर यूवक ने उससे मोबाईल नंबर से संपर्क कर बातचीत करते हुए उससे दोस्ती की ओर उसने अपने पिता को शासकीय कान्ट्रेक्टर तथा माँ को आखों का डॉक्टर बताया था। पीडीता ने आगे बताया कि शातिर यूवक ने अपने माता पिता को लॉकडाउन होने के कारण दुबई में फँसे होने की बात बताई थी। इसके बाद जालसाज ने यूवती को इमोशनली बातचीत करते हुए अपने जाल मे फंसाया ओर कहा कि उसकी माँ का कोविड-19 महामारी की चपेट मे आने से दुबई में ही मौत हो गई है। इसके बाद आरोपी ने पीडीता से अपने पेटीएम अकाउंट में 1 लाख रुपये की रकम जमा करवा ली। अभिषेक सोनेकर ने आगे बताया कि फरियादिया ने इसी साल 16 अप्रैल को आरोपी की प्रोफाईल शदीडॉट कॉम पर देखी थी, ओर इसके बाद उससे संपर्क किया था। इसके बाद पीडीता ने अन्य मेट्रीमोनियल साईट जीवनसाथी डॉट कॉम पर भी सर्चिंग की जहॉ उसे आरोपी की अलग नाम व अन्य जानकारी के साथ प्रोफाईल नजर आई। आरोपी की अलग प्रोफाईल नजर आने पर यूवती उसे शक हुआ कि आरोपी ने उसके साथ धोखाधडी की है। शिकायत मिलने पर गम्भीरता की गंभीरता को देखते हुये सायबर सेल द्वारा अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। आगे की जांच मे तकनीकी जानकारी की छानबीन के आधार पर जालसाज के भोपाल में होने की जानकारी सामने आने पर लॉकडाउन की परिस्थितियों में विशेष रुप से संक्रमण से सुरक्षा का ध्यान रखते हुये पीपीई किट, मास्क व सैनेटाईजर का उपयोग करते हुए सायबर सेल की टीम ने आरोपी को कोलार क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी कि गिरफ्तारी के बाद आगे की जांच मे सामने आया कि शातिर जालसाज के खिलाफ इन्दौर (म.प्र.) व फरिदाबाद (हरियाणा) में दुष्कर्म व धोखाधडी के मामले पहले से दर्ज है, जिनमें वो फिलहाल जमानत पर बाहर है। सायबर सेल टीम ने आगे बताया कि आरोपी के कब्जे से मोबाईल फोन व लेपटॉप जप्त किया गया है, जिसकी शूरुआती जांच मे पता चला है कि जालसाज देश के कई शहरो मे इस तरह की ठगी अंजाम देने के लिये 50 से भी अधिक महिलाओं से सोशल मिडीया के जरिये संपर्क में था । सभी को वह अलग अलग प्रोफेशन में होना बताकर शादी का झाँसा दिया करता था। मामले मे आगे की बारीकी से छानबीन कर रहे अभिषेक सोनेकर ने बताया कि आरोपी के मोबाईल ओर लैपटॉप से हाथ लगी जानकारी के आधार पर जांच जारी है, ओर उम्मीद है कि आने वाले दिनो मे आरोपी द्वारा शादी का झांसा देकर ठगी करने की और भी वारदातो को खूलासा हो सकता है। पूरे मामले म निरीक्षक अभिषेक सोनेकर , उ.नि. विनय नरविया , उ.नि. स्वाति अहलावत, आर. भागवत , आर. सुरेश मीणा की महत्तवपूर्ण भूमिका रही।
सायबर सेल ने ठगी की वारदातो से बचने के लिये आम जनता को जागरुक रहने की अपील करते हुए निम्न सावधानियॉ बरतने की सलाह दी है……
1) ऑनलाईन प्लेटफार्मस् पर लोगों से संपर्क व दोस्ती करते समय सावधानी बरतें।
2) व्यक्ति की पहचान सुनिश्चित करने के उपरांत ही पैसों का लेन-देन करे।
3) मैट्रीमोनियल वेबसाईट व ई-कोमर्स वेबसाईट पर किसी व्यक्तिगत खाते में राशि न डालें।
4) सोशल मीडिया अथवा मैट्रीमोनियल वेबसाईट के प्रोफाईल के उपयोगकर्ता से बातचीत व पैसों के लेन देन से पूर्व उसकी बेसिक जानकारी ज्ञात कर लें ताकि धोखाधडी से बच सकें ।
5) इन्टरनेट पर उपलब्ध प्रत्येक जानकारी को पूर्णतः सत्य न मानें ।
6) अपनी व्यक्तिगत जानकारी अपरिचित के साथ साँझा न करें ।

LEAVE A REPLY