हनुमान जयंती पर घरों में की गई पूजा- अर्चना

0
20

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
पवनपुत्र हनुमान जी का जन्मोत्सव आज सर्वार्थसिद्धि योग में मनाया गया। अंजनीनंदन की पूजा एक दिन पूर्व मंगलवार होने की वजह से शुरु हो गई थी। पिछले वर्षों में हनुमान जयंती के अवसर पर शहर के विभिन्न मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना के अलावा जगह-जगह विशाल भंडारों का आयोजन होता रहा, लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण भक्तों ने घरों में ही पूजा-अर्चना के साथ ही घर-घर में सुंदरकांड का पाठ किया।
हिंदू धर्मगुरुओं के मुताबिक हनुमानजी के पट खोले गए और भगवान की पूजा- अर्चना भी की गई , लेकिन किसी भी भक्त को प्रवेश नहीं दिया गया । हनुमान जी को शिवजी का ग्यारहवां अवतार माना जाता है। मान्यतानुसार रुद्रावतार भगवान हनुमान माता अंजनी और वानर राज केसरी के पुत्र हैं। उनके जन्म का वर्णन वायु-पुराण में किया गया है। श्री हनुमान जी परोपकारी देवता हैं। जो लोगों का हमेशा कल्याण करते हैं। आनंद योग के साथ सर्वार्थ सिद्धि योग भी सूर्योदय से देर रात तक है। लॉकडाउन के कारण पर्याप्त समय के चलते लोग सुंदरकांड, बजरंग बाण, हनुमानष्टक, हनुमान चालीसा और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ कर रहे हैं।
मंदिरों में सन्नाटा
शहर के प्रमुख खेड़ापति हनुमान मंदिर ,गरगज के हनुमान मंशापूर्ण हनुमान रोकडिया सरकार हनुमान मंदिर पर पुजारियों ने मारुति नंदन की प्रतिमा का आकर्षक सिंगार कर पूजा अर्चना की तथा भोग लगाया! लॉक डाउन के कारण सभी मंदिरों में सन्नाटा नजर आया लेकिन उसके बाद भी तड़के से ही श्रद्धालु हनुमान मंदिरों में दर्शन करने पहुंचे लेकिन मुख्य द्वार पर ताला लटका होने के कारण भक्तों बाहर से ही पवन पुत्र के दर्शन कर वापस घर लौट आए! तो कहीं लोगों ने घरों में ही मालपुए की राधिका प्रसाद बनाकर पवन पुत्र का भोग लगाया और पूजा अर्चना कर हनुमान जयंती मनाई!

LEAVE A REPLY