कोरोना इफेक्ट …खाने की गाड़ी देख मच जाती है लोगों में होड़, न सोशल डिस्टेंसिंग न सेफ्टी मेजरमेंट का ख्याल

0
15

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
शहर इन दिनों लॉकडाउन के दौर से गुजर रहा है। पिछले 2 सप्ताह से शहर में लॉकडाउन जारी है। इसका सबसे ज्यादा खामियाजा गरीब तबके के मजदूरों को उठाना पड़ रहा है, जो रोजाना काम करते हैं और रोजाना होने वाली कमाई से अपने घर का चूल्हा जलाते हैं। इन लोगों को पिछले 15 दिनों से कोई भी काम लॉकडाउन के कारण नहीं मिला है अब यह लोग पूरी तरह शहर में विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं और लोगों द्वारा बांटे जाने वाले खाने पर निर्भर हैं।
ग्वालियर के कटोरा ताल के थीम रोड स्थित सड़क किनारे बैठे लोगों में उस समय भगदड़ सी मच जाती है जब कोई खाना बांटने वाले लोग गाड़ियों से वहां आते हैं। इस दौरान खाने के पैकेट लेने के लिए लोगों में होड़ सी मच जाती है। फिर उस समय ना तो लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं और ना ही वे मास्क जैसे सेफ्टी मेज़रमेंट को अपनाते हैं।
ग्वालियर के अचलेश्वर मंदिर के आसपास बड़ी संख्या में इन दिनों लोगों का हुजूम बैठा रहता है। मंगलवार को भीम रोड पर मजदूर और गरीब तबके के लोगों को खाने बांटने आई गाड़ी के बाहर लोगों की इतनी भीड़ जमा हो गई थी कई बार खाने के पैकेट फेंकने जैसी नौबत आ गई। बाद में उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का हवाला देकर अलग अलग किया गया।मजदूरों का कहना है कि कुछ लोग संपन्न होने के बाद भी खाना लेने की होड़ में जुट जाते हैं जबकि वे इसके असली हकदार नहीं हैं।
———————————– और यहां —————————————————–
एडीजी राजाबाबू सिंह ने अपने हाथों से पिलाया गर्म पानी, चाय और नाश्ता
ग्वालियर। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये केन्द्र सरकार द्वारा 24 मार्च से ग्वालियर में किये गये लॉकडाउन को सफल बनाने के लिये अन्य शहरों से संक्रमित होकर व्यक्ति शहर में प्रवेश न कर पाये इसलिये ग्वालियर शहर की सीमाओं (प्रवेश द्वार) आगरा की ओर आने वाले वाहनों के लिये रायरू – निरावली, भिण्ड की ओर से आने वाले लक्ष्मणगढ़ और भोपाल और शिवपुरी की ओर से आने वाले वाहनो और व्यक्तियों को रोकने लिये बैला की वाबडी पर पुलिस कर्मचारी 24 घंटे 30 दिनों यानी 3 शिफ्टों में तैनात किये गये है। इन सभी पुलिस कर्मियों की हौंसला अफजाई करने के लिये एडीजी राजाबाबू सिंह दोपहर 12 बजे चिलचिलाती धूप में सबसे पहले डीआरपी लाईन के क्वारंटाइन भवन और सुपर बाजार का निरीक्षण किया और शहर की सीमाओं पर तैनात पुलिस कर्मचारियों गर्म पानी और चाय नाश्ता अपने हाथों कराया।
सबसे पहले एडीजी राजाबाबू सिंह आरआई अरबिदं दांगी के साथ क्वारंटाइन भवन पहुंचे अगर कोई पुलिस कर्मचारी कोरोना वायरस से सक्रमित होकर यहां पर लाया जाता है तो उसके लिये की गयी व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जो पुलिस कर्मचारी कोरोना वायरस के लिये पुलिस ड्यूटी पर तैनात 15 -15 दिनों से घर नहीं पहुंच पाये तो उनके घर पर राशन पानी पहुंचाने के लिये सुपर बाजार बनाया गया है। इसके लिये तीन व्हाट्सग्रुप बनाये गये हैं एक व्हाट्सग्रुप एक 3 पुलिस कर्मी तैनात किये गये हैं। जो ऑर्डर आने के महज 30 मिनट सामान घर पर पहुंचा देते हैं।
जैसे ही कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित होता है तो वह वायरस 3 दिन तक गले में रहता है उसके बाद स्टमक से लीवर और फैफड़ों में पहुंच जाता है। फेफड़ों को जाम कर देता है अगर कोई भी व्यक्ति दिन में 4 बार गर्म पानी पीता है तो वह कोरोना वायरस गर्म पानी से सीधा पेट में चला जाता है और उसके बाद टायलेट के रास्ते बाहर निकल जाता हैं।
रायरू निरीवली पर एडीजी राजाबाबू सिंह लगभग 1 बजे पहुंचे पर पुलिस कर्मचारी पीपीई किट सेट पर आगरा की आने वाले वाहनों और व्यक्तियों को कर रहे थे। यहां पर पुलिस के साथ नगरनिगम, ईकोग्रीन कंपनी और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी लगातार 3 शिफ्टों में कार्य करने के लिये तैनात थे पुलिस के 8 कर्मचारी 3 शिफ्टों ईकोग्रीन कंपनी की ओर से डॉ. आशासिंह, नगरनिगम की ओर से जोनल अधिकारी संदीप श्रीवास्तव, मुकेश सिंहल तैनात है एडीजी राजाबाबू सिंह ने सभी कर्मचारियों को गर्म पानी और चाय अपने हाथों से पिलाई और नाश्ता भी कराया। स्वास्थ्य कर्मचारियों की समस्या के समाधान के लिये प्रभारी सीएचएमओ डॉ. बिन्दु सिंघल को भी निर्देशित किया।
लक्ष्मणगढ़ महाराजपुरा प्रवेश द्वार
लक्ष्मणगढ़ में पुलिस 30 कर्मचारी जो कि लगातार तीन शिफ्टों में तैनात हैं मौके पर एडीएम रिकेंश वैश्य, सीएसपी रवि भदौरिया, एक टीआई, सहकारिता विभाग की ओर से इंस्पेक्टर विकास माठे, 2 डॉक्टर लगातार तैनात है जो आने जाने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग कर रहे हैं। यहां पर तैनात पुलिस कर्मचारियों और डॉक्टरों को एडीजी राजाबाबू सिंह ने गर्म पानी और चाय नाश्ता अपने हाथों से करवाया। यहां पर फैली गंदगी, मौके पर डस्टबिन नहीं होने पर नाराजगी जताई इसके अलावा पुलिस कर्मचारियों को 30 पीपीई किट उपलब्ध करवाने के लिये आरआई अरबिंद दांगी को निर्देशित किया।
बैला की वाबडी प्रवेश द्वार
बैला की बावडी पर पहुंचे एडीजी को पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम के आलावा इंसीडेंट कमाण्डर ममता शाक्य और सैल्स टैक्स इंस्पेक्टर पवन बहोरे मौके पर नदारत पाये गये इसके लिये एडीजी राजाबाबू सिंह ने इंसीडेंट कमाण्डर को फोन लगाया पवन बोहरे के खिलाफ निलंबन की कार्यवाही करने के लिये आदेशित किया। इसके बाद एडीजी ने कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह को मौके से ही निर्देशित किया सैल्स टैक्स इंस्पेक्टर पवन बोहरे को निलंबित करें। तदुपरांत एडीजी राजाबाबू सिंह मौके पर तैनात पुलिस कर्मचारियों को गर्म पानी, चाय और नाश्ता करवाया। इसके बाद डॉक्टर अपना चैकअप भी करवाया जिसमें एडीजी का बॉडी का टैम्प्रेचर 97.9 आया।

LEAVE A REPLY